Ram Sharma Acharya

શ્રી ગાયત્રી ચાલીસા | Shri Gayatri Chalisa PDF In Gujarati

શ્રી ગાયત્રી ચાલીસા – Shri Gayatri Chalisa Book/Pustak PDF Free Download ગાયત્રી માતાની આરાધના માટે ગાયત્રી માતા ચાલીસા ખૂબ જ સુંદર માધ્યમ છે. આ મંત્રમાં ચાલીસ શ્લોકોનો સમૂહ છે. જેના દ્વારા ભક્તો માતા ગાયત્રીની પૂજા કરે છે. ગાયત્રી માતા હંમેશા પોતાના ભક્તો પર કૃપા રાખે છે. તેમની કૃપાથી માણસ હંમેશા સુખી જીવન જીવે છે. તે …

શ્રી ગાયત્રી ચાલીસા | Shri Gayatri Chalisa PDF In Gujarati Read More »

श्री गायत्री चालीसा | Shree Gayatri Chalisa PDF In Hindi

माँ गायत्री चालीसा चित्रावली – Gayatri Chalisa Book/Pustak PDF Free Download गायत्री चालीसा – Gayatri Chalisa Lyrics || दोहा || हीं श्रीं, क्लीं, मेधा, प्रभा, जीवन ज्योति प्रचण्ड |शांति, क्रांति, जागृति, प्रगति, रचना शक्ति अखण्ड ||जगत जननि, मंगल करनि, गायत्री सुखधाम |प्रणवों सावित्री, स्वधा, स्वाहा पूरन काम || || चौपाई || भूर्भुवः स्वः ॐ युत …

श्री गायत्री चालीसा | Shree Gayatri Chalisa PDF In Hindi Read More »

कर्मकांड भास्कर | Karmkand Bhaskar PDF In Hindi

कर्मकांड भास्कर – Karmkand Bhaskar Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश कर्मकाण्ड प्रारम्भ करने के पूर्व वातावरण शान्त करके सबका ध्यान उसी ओर खींच लेना चाहिए। कर्मकाण्ड के कृत्य भले ही गिने-चुने व्यक्ति करते हो; परन्तु सभी उपस्थित व्यक्तियों के विचारों और भावनाओं के एकीकरण संयोग से ही उसमें शक्ति आती है। …

कर्मकांड भास्कर | Karmkand Bhaskar PDF In Hindi Read More »

प्रसुप्त चेतना का अभिवनव जागरण | Prasupta Chetna Ka Abhinav Jagran

प्रसुप्त चेतना का अभिवनव जागरण | Prasupta Chetna Ka Abhinav Jagran Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश पुरातन और अर्वाचीन अन्तर का कारण शरीर और प्राण मिलकर जीवन बनता है। इनदोनों में से एक भी विलग हो जाय तो जीवन का अन्त ही समझना चाहिए। गाड़ी के दो पहिये ही मिलकर संतुलन …

प्रसुप्त चेतना का अभिवनव जागरण | Prasupta Chetna Ka Abhinav Jagran Read More »

व्यक्तित्व परिष्कार की साधना | Vyaktitva Parishkar Ki Sadhna Hindi PDF

व्यक्तित्व परिष्कार की साधना | Vyaktitva Parishkar Ki Sadhna Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश आत्मबोध की साधना प्रातः आँख खुलते ही यह साधना की जाती है। रात्रि में नींद आते ही यह दृश्य जगत समाप्त हो जाता है। मनुष्य स्वप्न- सुषुप्ति के किसी अन्य जगत में रहता है। इस जगत में …

व्यक्तित्व परिष्कार की साधना | Vyaktitva Parishkar Ki Sadhna Hindi PDF Read More »

संस्मरण जो भुलाया न जा सकेंगे | Sansmaran Jo Bhulaya Na Ja Sakenge

संस्मरण जो भुलाया न जा सकेंगे | Sansmaran Jo Bhulaya Na Ja Sakenge Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश घृणा, विद्वेष, चिड़चिड़ापन, उतावली. अधैर्य, अविश्वास यही सब उसकी संपत्ति थे। यो कहिये कि संपूर्ण जीवन ही नारकीय बन चुका था, उसके बौद्धिक जगत् में जलन और कुदन के अतिरिक्त कुछ भी तो …

संस्मरण जो भुलाया न जा सकेंगे | Sansmaran Jo Bhulaya Na Ja Sakenge Read More »

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सच्चे अतिथि महाराष्ट्र के संत श्री एकनाथ जी को छह मसखरे युवक सदा तंग किया करते थे। एक बार एक भूखा ब्राह्मण उस गाँव में आया और भोजन की याचना की। गाँव के उन्हीं दुष्ट-जनों मे उससे …

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang Read More »

सुनसान के सहचर | Sunsan Ke Sahchar

सुनसान के सहचर | Sunsan Ke Sahchar Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश इसे एक सौभाग्य, संयोग ही कहना चाहिए कि जीवन को आरम्भ से अन्त तक एक समर्थ सिद्ध पुरुष के संरक्षण में गतिशील रहने का अवसर मिल गया । उस मार्गदर्शक ने जो भी आदेश दिए वे ऐसे थे जिनमें …

सुनसान के सहचर | Sunsan Ke Sahchar Read More »

शब्द ब्रह्म नाद ब्रह्म | Shabd Brahm Naad Brahm

शब्द ब्रह्म नाद ब्रह्म | Shabd Brahm Naad Brahm Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश स्वर से ‘अक्षर’ की अनुभूति पुराणों में एक आख्यायिका आती है। देवर्षि नारद ने एक बार लंबे समय तक यह जानने के लिए प्रव्रज्या की कि सृष्टि में आध्यात्मिक विकास की गति किस तरह चल रही है …

शब्द ब्रह्म नाद ब्रह्म | Shabd Brahm Naad Brahm Read More »

मन साधे जीवन सधै | Man Sadhe Jeevan Sadhai

मन साधे जीवन सधै | Man Sadhe Jeevan Sadhai Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश कहा जाता है – ” मन के हारे हार है, मन के जीते जीत।” यह साधारण-सी लोकोक्ति एक असाधारण सत्य को प्रकट करती है और वह है- मनुष्य के मनोबल की महिमा। जिसका मन हार जाता है, …

मन साधे जीवन सधै | Man Sadhe Jeevan Sadhai Read More »

108 उपनिषद साधना खंड | 108 Upanishad Sadhana Khand

108 उपनिषद साधना खंड सरल हिंदी भावार्थ सहित | 108 Upanishad Sadhana Khand Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश हे अकार! तुम मृत्यु को जीतने वाले हो, सर्वव्यापी इस प्रथम अक्ष (मनके) में स्थित हो जाओ। हे आकार! तुम आकर्षण शक्ति से ओत-प्रोत सर्वत्र संव्याप्त हो, इस द्वितीय अक्ष में प्रविष्ट हो …

108 उपनिषद साधना खंड | 108 Upanishad Sadhana Khand Read More »

मनोविकार सर्वनाशी महाशत्रु | Psychosis Is Dangerous In Hindi

मनोविकार सर्वनाशी महाशत्रु | Psychosis Is Dangerous Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश मानसिक अवसाद का घातक प्रभाव शरीर पर मन का नियंत्रण है इस तथ्य को हम प्रतिक्षण देखते हैं। मस्तिष्क की इच्छा और प्रेरणा के अनुरूप प्रत्येक अंग कार्य करता है। प्रत्यक्ष रूप से दिखाई देने वाले क्रिया-कलाप हमारी मानसिक …

मनोविकार सर्वनाशी महाशत्रु | Psychosis Is Dangerous In Hindi Read More »

योग के नाम पर मायाचार | Yog Ke Naam Par Mayachar

योग के नाम पर मायाचार | Yog Ke Naam Par Mayachar Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश योग के नाम पर मायाचार सत्य की शोष के लिये सुदूर स्थानों में जो पर्यटन हमने किया है उसमें सत्पुरुष और सच्चे महात्माओं का अनुग्रह प्राप्त किया है, यहाँ धूर्त लोग भी कम नहीं मिले …

योग के नाम पर मायाचार | Yog Ke Naam Par Mayachar Read More »

उपासना के दो चरण जप और ध्यान | Jap Aur Dhyan

उपासना के दो चरण जप और ध्यान | Jap Aur Dhyan Book/Pustak PDF Free Download जप योग की विधि-व्यवस्था प्रतीक उपासना की पार्थिव पूजा के कितने ही कर्मकाण्डों का प्रचलन है। तीर्थयात्रा, देवदर्शन, स्तवन, पाठ, षोडशोपचार; परिक्रमा, अभिषेक, शोभायात्रा, श्रद्धाञ्जलि, रात्रि जागरण, कीर्तन आदि अनेकों विधियाँ विभिन्न क्षेत्रों और वर्गों में अपने-अपने ढंग से विनिर्मित …

उपासना के दो चरण जप और ध्यान | Jap Aur Dhyan Read More »

स्वामी रामकृष्ण परमहंस | Swami Ramkrishna Paramhans

स्वामी रामकृष्ण परमहंस | Swami Ramkrishna Paramhans Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश पतन और उत्थान संसार का अटल नियम है। यह केवल व्यक्तियों पर ही नहीं वरन देश, राष्ट्र, समाज, जाति, सभी छोटी बड़ी संस्थाओं पर लागू होता है। जो जातियाँ किसी समय संसार की स्वामिनी बनी हुई थीं वे ही …

स्वामी रामकृष्ण परमहंस | Swami Ramkrishna Paramhans Read More »