Inspirational

This category is a collection of Inspirational books PDF in the Hindi language For Self Improvement and For Self Development of a person.

मरणोत्तर जीवन | Marnottar Jeevan Hindi PDF

मरणोत्तर जीवन | Marnottar Jeevan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश १. क्या आत्मा अमर है: “विनाशमव्ययस्यास्य न कश्चित्कर्तुमर्हति” -भगवद्गीता उप बृहत् पौराणिक ग्रंथ महाभारत में एक आख्यान है त्रिसमें कथानायक युधिष्टिर से चर्म ने प्रश्न किया कि संसार में अत्यन्त आश्चर्यकारक क्या है? युधिष्ठिर ने उत्तर दिया कि मनुष्य अपने जीवन …

मरणोत्तर जीवन | Marnottar Jeevan Hindi PDF Read More »

रिच डैड पुअर डैड | Rich Dad Poor Dad PDF In Hindi

रिच डैड पुअर डैड – Rich Dad Poor Dad In Hindi Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश पैसो के बारे में अमीर लोग अपने बच्चों को ऐसा क्या सिखाते है, जो गरीब और माध्यम वर्ग के माता पिता नहीं सिखाते ! रिच पुअर डेड Rich Dad Poor Dad रॉबर्ट कियोसाकी जी Robert …

रिच डैड पुअर डैड | Rich Dad Poor Dad PDF In Hindi Read More »

चटाकेदार चुटकुले | Snappy jokes

चटाकेदार चुटकुले | Snappy jokes Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश आज का चुटकुला 1 से 1001 एक आदमी की मौत हो गई और उसे अपने कर्मों के कारण नर्क की प्राप्ति हुई. उसने यहां जाकर देखा कि हर देश के लिए अलग-अलग नर्क है.वह अमरीकन नर्क में गया और पूछा कि …

चटाकेदार चुटकुले | Snappy jokes Read More »

गुरु ग्रन्थ साहिब वाणी एवं सिद्धांत | Guru Granth Sahib Vani Evm Siddhant

गुरु ग्रन्थ साहिब वाणी एवं सिद्धांत | Guru Granth Sahib Vani Evm Siddhant Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश गुरु ग्रंथ साहिब और भारतीय दर्शन वैदिक संस्कृति और श्रमण सँस्कृति ऐसी दो विचारधाराएं हैं जो भारत में प्राचीन काल से ही प्रचलित हैं। वैदिक संस्कृति तो आर्यों के भारत प्रवेश और पक्के …

गुरु ग्रन्थ साहिब वाणी एवं सिद्धांत | Guru Granth Sahib Vani Evm Siddhant Read More »

सुखी होने के उपाय | Sukhi Hone Ke Upay

सुखी होने के उपाय | Sukhi Hone Ke Upay Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश साधनामय जीवन मन जिस प्रकारकी भावनामें रहता है, मनमें जो चीजें रहती हैं, उसी प्रकारसे, उसी भावसे वह मनुष्य जगत्को देखता है। जिसके मनमें बुरा भाव है वह जगत्में सर्वत्र बुराई ही देखता है। वह उन्हीं बुरे …

सुखी होने के उपाय | Sukhi Hone Ke Upay Read More »

सरस प्रसंग | Saras Prasang

सरस प्रसंग | Saras Prasang Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश विशुद्ध प्रेम जहाँ प्रेम केवल प्रेमके लिये होता है वहाँ प्रेमकी विशुद्धि बनी रहती है। जहाँ प्रेम किसी दूसरे आधारपर उपस्थित हो गया और किसी दूसरेको वह चाहने लगा तब वह प्रेम कलंकित हो जाता है उस प्रेमका केवल प्रेम नाम …

सरस प्रसंग | Saras Prasang Read More »

प्रेम और प्रेमी | Prem Aur Premi

प्रेम और प्रेमी | Prem Aur Premi Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सच्चा प्रेम त्यागमें है एक प्रश्न है कि किसीके शरीरमें बड़ी पीड़ा हो रही है। उसे बिच्छू काट लिया है या अन्य प्रकारकी कोई वेदना है। उस वेदनामें भगवान्‌का मंगलमय विधान है और उसमें भगवान्‌को सुख होता है। इसे …

प्रेम और प्रेमी | Prem Aur Premi Read More »

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सच्चे अतिथि महाराष्ट्र के संत श्री एकनाथ जी को छह मसखरे युवक सदा तंग किया करते थे। एक बार एक भूखा ब्राह्मण उस गाँव में आया और भोजन की याचना की। गाँव के उन्हीं दुष्ट-जनों मे उससे …

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang Read More »

स्वाध्याय, सत्संग और चिंतन मनन | Swadhyay, Satsang Aur Chintan Manan

स्वाध्याय, सत्संग और चिंतन मनन | Swadhyay, Satsang Aur Chintan Manan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश शीघ्र मृत्यु से बचना है तो मानसिक व्यायाम कभी भूलकर भी बंद न करें। मानसिक व्यायाम अर्थात् स्वाध्याय का अर्थ कुछ भी पढ़ना नहीं जो विषय आप नहीं जानते उसका अध्ययन कीजिए। किसी ऐसे विषय …

स्वाध्याय, सत्संग और चिंतन मनन | Swadhyay, Satsang Aur Chintan Manan Read More »

जल्दी मरने की उतावली न करें | Jaldi Marne Ki Utawli Na Kare

जल्दी मरने की उतावली न करें | Jaldi Marne Ki Utawli Na Kare Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश तनाव हर स्थिति में हानिकारक यह तथ्य न केवल सर्वविदित है परन् प्रत्येक का अनुभव भी है कि आज का जीवन व्यस्त और तनावपूर्ण है । आजकल सभी लोग तनावपूर्ण जीवन के शिकार …

जल्दी मरने की उतावली न करें | Jaldi Marne Ki Utawli Na Kare Read More »

स्फूर्ति और मस्ती भरा बुढ़ापा | Sfurti Aur Masti Bhara Budhapa

स्फूर्ति और मस्ती भरा बुढ़ापा | Sfurti Aur Masti Bhara Budhapa Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश समय से पहले बुढ़ापा क्यों आए बुढ़ापा क्यों और कैसे आता है ? इससे निजात कैसे पाई जाए-इस विषय पर आज देश विदेश की विभिन्न शोधशालाओं में गहन अनुसंधान कार्य चल रहे हैं। अधिकांश मामलों …

स्फूर्ति और मस्ती भरा बुढ़ापा | Sfurti Aur Masti Bhara Budhapa Read More »

बोया काटा का अकाट्य सिद्धांत | Boya Kata Ka Akatya Siddhant

बोया काटा का अकाट्य सिद्धांत | Boya Kata Ka Akatya Siddhant Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश उन्होंने कहा, “गायत्री मंत्र कइयों ने अपे हैं, कई लोग उपासना करते हैं, लेकिन ऋद्धियाँ और सिद्धियाँ किसी के पास नहीं आतीं। जप कर लेते हैं और लोगों से बता देते हैं कि हमने गायत्री …

बोया काटा का अकाट्य सिद्धांत | Boya Kata Ka Akatya Siddhant Read More »

श्री उड़िया बाबाजी के उपदेश | Shri Udiya Baba Ji Ke Updesh

श्री उड़िया बाबाजी के उपदेश | Shri Udiya Baba Ji Ke Updesh Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश किन्तु इसी समय थापके वित्त में ऐसे विचार आने लगे-‘इस अनुष्ठान से क्या होगा ? एक मात्र मिल भी गया तो क्या इस उससे संसार के सभी प्राणियों का दुख दूर कर सकते हैं? …

श्री उड़िया बाबाजी के उपदेश | Shri Udiya Baba Ji Ke Updesh Read More »

गौ राष्ट्रमाता चित्रमय चेतावनी | Gau Rashtra Mata Chitramay Chetavani

गौ राष्ट्रमाता चित्रमय चेतावनी | Gau Rashtra Mata Chitramay Chetavani Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश गो हिन्दू संस्कृति और इस सनातन राष्ट्र के मूलधारों में से एक है। गाय उसी प्रकार रक्षणीया है जिसप्रकार हम भूमि और राष्ट्र की रक्षा करते हैं, क्योकि गाय की रक्षा का अर्थ है अतर्वाह शुचिता, …

गौ राष्ट्रमाता चित्रमय चेतावनी | Gau Rashtra Mata Chitramay Chetavani Read More »

स्वामी विवेकानंद जी उपदेश | Swami Vivekanand Ji Updesh

स्वामी विवेकानंद जी उपदेश | Swami Vivekanand Ji Updesh Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश है सखे, तुम क्यों रो रहे हो ? सब शक्ति तो तुम्ही में हैं। हे भगवन, अपना ऐश्वर्यमय स्वरूप को विकसित करो। ये तीनों लोक तुम्हारे पैरों के नीचे हैं जड की कोई शक्ति नहीं प्रबल शक्ति …

स्वामी विवेकानंद जी उपदेश | Swami Vivekanand Ji Updesh Read More »