Hanuman Prasad

पद रत्नाकर | Pad Ratnakar PDF

पद का संग्रह – Pad Ratnakar Book/Pustak Pdf Free Download पद रत्नाकर साधुभाव, सोपील्य परम, चापल्य मथुर, गाम्भीर्य अपार । गीत-वाद्य-शुचि-नृत्य-कुशलता, ललित अनन्त कला-आगार । जिय-गुण-वर्णन-मुखरा अति, मन मौन, नित्य उद्दीपित भाव । स्व-सुख-कल्पनाशून्य सर्वथा, नित्य एक प्रियतम-सुख-चाव । सहज प्रेम प्रतिमा, पर निजी में नित्य प्रेमशून्यता-ज्ञान । आत्मनिवेदनमयता, पर है नहीं समर्पण-स्मृति अभिमान । …

पद रत्नाकर | Pad Ratnakar PDF Read More »

धर्म क्या है | Dharma Definition And Significance PDF

धर्म की परिभाषा और महत्व – Importance Of Religion And Its Explanation PDF Free Download धर्म की परिभाषा अर्थात् श्रीशंकराचार्य साक्षात् शंकर थे । श्रीराम- नुजाचार्य शेषके अपवार थे। पितामह ब्राने मनाचार्य के रूपमें अवतार अहण किया था।पद्धति कोई भी क्यों न हो, अभीष्ट है धर्मके अन्तर्गत आनेवाले समप्रदाबौका सामझस्त्र | सङ्गोपन्न येदके गुरुपरम्परागत उपदेशसे …

धर्म क्या है | Dharma Definition And Significance PDF Read More »

साधन पथ | Sadhan Path PDF

साधन पथ – Sadhan Path Book/Pustak Pdf Free Download जीवन का परम ध्येय इससे यह सिद्ध होता है कि उसे अभावमय सुख सदाके लिये सन्माष्ट नहीं कर सकता। बदह पूर्ण सुख चाहता है । पूर्ण, नित्य, अभावरहित मुख उस सद्, त्रिकाल्व्यापी और वस्तुका खरूप है, यह वस्तु केवल परमात्मा है । इस न्यायसे विविध जीव-नदियों …

साधन पथ | Sadhan Path PDF Read More »

संत वाणी अंक | Sant Vani Ank PDF

संत वाणी अंक | Sant Vani Ank Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश श्रीमहादजी कहते हैं-हापीमें भी विष्णु, सर्पमें मी विष्णु, जलमें भी विष्णु और अविमें भी भगवान् विष्णु ही हैं । दैत्वपते ! आपमें भी विष्णु और मुझमें भी विष्णु हैं, विष्णुके बिना दैत्यगणकी भी कोई सत्ता नहीं है । मैं …

संत वाणी अंक | Sant Vani Ank PDF Read More »

साधन क्या है | Sadhna Ank PDF In Hindi

साधन अंक – Sadhna Ank Book Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश बैदान्तशाखमें कई प्रकारसे यह बात बतायी गयी है। कहीं इसके सत्रह अवयव बताये गये हैं- पाँच कर्मेन्द्रिय, पाँच ज्ञानेन्द्रिय, बुद्धि, मन और पाँच प्राण (बेदान्तसार १३); फिर आठ पुरियोंका उल्लेख है (सुरेश्वराचार्यका पञ्चीकरण चार्तिक)-जिनमें पाँच ज्ञानेन्द्रिय, पाँच कर्मेन्द्रिय, मन, बुद्धि, अहंकार, …

साधन क्या है | Sadhna Ank PDF In Hindi Read More »

मानवता क्या है | Humanity PDF In Hindi

मानवता की व्याख्या और विवरण – Complete Imformation About Humanity Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश किंतु सम्पूर्ण विश्व, जैसा आज एक हो गया है और जिस प्रकार आज सब देशों का दीर्घ अन्तर दूर हो गया है, वैसा कदाचित् पहले कभी नहीं था । विज्ञानने कम-से-कम यह उपकार किया है । कुछ …

मानवता क्या है | Humanity PDF In Hindi Read More »

ईश्वर अंक | Ishwar Ank PDF In Hindi

ईश्वर अंक – Ishwar Ank Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश जगतके तीन महान् गुरु गौतम बुद्ध, ईसा एवं मुहम्मदके लेखों में इस बात का अकाट्य प्रमाय मिकते हैं कि उनं प्रार्थनासे ही प्रकाश मिला और वे प्रार्थनाके बिना जीवित नहीं रह सकते थे । काखों ईसाइयों, हिन्दुओं तथा मुसलमानोंको आज भी …

ईश्वर अंक | Ishwar Ank PDF In Hindi Read More »

भक्त चरितांक | Bhakt Charitank PDF In Hindi

भक्त चरितांक – Bhakt Charitank Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश उन्होंने कहा-हम तुम्हारी सेवासे ही संतुष्ट हैं, मुझे और कुछ भी दक्षिणा नहीं चाहिये ।’ गुरुजीके यो कहनेपर भी मैं बार-बार उनसे गुरुदक्षिणाके लिये आग्रह करता ही रहा । तत्र अन्तमे उन्होने झल्लाकर कहा-अच्छा तो चौदह लाख सुवर्णमुद्रा लाकर हमे दो । …

भक्त चरितांक | Bhakt Charitank PDF In Hindi Read More »

भागवत चर्चा | Bhagwat Charcha PDF

भागवत चर्चा – Bhagwat Charcha Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश अर्जुन पूछता श्रीकृष्ण ! यह पुरुष इच्छा न करना भी किसकी प्रेरणासे पाप करता है? मानो कोई जबरदस्ती उसे पापों लगा रहा हो। इसके उत्तर में श्रीकृष्ण कहते हैं- जो इस पुरुषको पापमें प्रवृत्त करता है, वह रजोगुणसे उत्पन्न हुआ काम …

भागवत चर्चा | Bhagwat Charcha PDF Read More »

अमृत कण | Immortal Atom PDF In Hindi

अमृत कण – Spiritual Atoms Book Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश एक सट्टा खेलते हैं बहुत अधिक प्राप्त करनेके लिये। इतनी रिश्क तो वे उठाते ही हैं कि कलको ये मिनिस्टर न बने तो शायद हमारे इस इन्वेस्टमेटका फल तुरंत नहीं मिलेगा। कहीं-कहीं पूरी रकम डूबनेका भय भी रहता ही है। कुछ …

अमृत कण | Immortal Atom PDF In Hindi Read More »

तुलसी दल | Tulsi Dal Gita Press PDF

तुलसीदल – Tulsidal Gita Press Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश और यो मी पे है, उसमें परन पचोकि मिर बीकनसा मेर बकेलक हुण्हारी रुचि र अनुसरण कारनामात्र ही खचाता है। यही तो दशा प्रेम है । मोगमे रहकर मोगोको अपना भाग्य ग समझना, संखारमे राहकर संसारको भूल जाना, जगत्में रहकर अपने आपको …

तुलसी दल | Tulsi Dal Gita Press PDF Read More »

प्रेम सुधा सागर | Prem Sudha Sagar PDF In Hindi

श्री प्रेम सुधा सागर – Prem Sudha Sagar Book PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश वसुदेवजीके घर खय पुरुषोत्तम है भगवान् प्रकट होंगे। उनकी और उनकी प्रियतमा = (श्रीराधा)की सेवाके लिये देवाङ्गनाएँ जन्म प्रहण करें । २३॥ खयंप्रकाश भगवान् शेष भी, जो भगवान्की कला होनेके = कारण अनन्त हैं (अनन्तका अंश भी अनन्त …

प्रेम सुधा सागर | Prem Sudha Sagar PDF In Hindi Read More »

10+ शिक्षाप्रद कहानियां | Shikshaprad Kahani PDF In Hindi

शिक्षाप्रद कहानी – Shikshaprad Gyarah Kahani Book Pdf Free Download शिक्षाप्रद ग्यारह कहानियां ‘जो अनन्यप्रेमी भक्तजन मुझ परमेश्वरको निरन्तर चिन्तन करते हुए निष्कामभावसे भजते हैं, उन नित्य-निरन्तर मेरा चिन्तन करनेवाले पुरुषोका योगक्षेम मैं स्वय प्राप्त कर देता हूँ ।’ कोई-कोई इस श्लोकका सर्वथा सकाम और निवृत्तिपरक अर्थ करते हैं और संसार यात्रा की कुछ भी …

10+ शिक्षाप्रद कहानियां | Shikshaprad Kahani PDF In Hindi Read More »

नैवेध क्या होता है | Naivedya

नैवेध को कैसे अर्पित करे – Naivedhya Book Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश देते नहीं सकुचाते, तथा यहाँ प्रतीत होता है कि उनका ईश्वरको सर्पन्यापी और सर्वान्तर्यामी भी कहना विडम्बनामात्र है ऐसी स्थितिमें ईश्वर और ईश्वर-भक्तिके लिये कुछ अधिक कहना-सुनना अरण्य-रोदनके सगान ही होता है, परन्तु इस त्रिताप-तप्त संसारके लिये ईअवर-भक्तिकरी सुधा-धाराके …

नैवेध क्या होता है | Naivedya Read More »

मानव जीवन का लक्ष्य | Aim of Human Life PDF

मानव जीवन का लक्ष्य – Manav Jivan Ka Lakshay PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश गोपाझनाओंने बंशीध्वनि सुनी और उनकी विचित्र स्थिति हो गयी। उस समयकी उनकी स्थिति के चित्रको देखें। कानोंमें बंशीकी प्वनि सुनायी पड़ी । वस, उनके पथ, संकोच, धैर्य, मर्यादा आदि सबको छीन लिया उसने उसी क्षण बे उन्मत्त हो …

मानव जीवन का लक्ष्य | Aim of Human Life PDF Read More »