Gita Vatika

योग एवं भक्ति | Yog Evm Bhakti

योग एवं भक्ति | Yog Evm Bhakti Book/Pustak PDF Free Download मन्त्र सिद्धिका अद्भुत चमत्कार बिरला हाउस, नयी दिल्लीसे मास्टर श्रीरामजी लिखते हैं दिल्ली में अनुमान दो-ढाई माससे एक वैष्णव साधु आये हुए थे, जिनका नाम बाबा गोपालदास है। वे यहाँपर आर्यनिवास नं० १, डाक्टर लेन पर ठहरे थे। छतके ऊपर एक गोल-सा छोटा कमरा …

योग एवं भक्ति | Yog Evm Bhakti Read More »

सुखी होने के उपाय | Sukhi Hone Ke Upay

सुखी होने के उपाय | Sukhi Hone Ke Upay Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश साधनामय जीवन मन जिस प्रकारकी भावनामें रहता है, मनमें जो चीजें रहती हैं, उसी प्रकारसे, उसी भावसे वह मनुष्य जगत्को देखता है। जिसके मनमें बुरा भाव है वह जगत्में सर्वत्र बुराई ही देखता है। वह उन्हीं बुरे …

सुखी होने के उपाय | Sukhi Hone Ke Upay Read More »

सरस प्रसंग | Saras Prasang

सरस प्रसंग | Saras Prasang Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश विशुद्ध प्रेम जहाँ प्रेम केवल प्रेमके लिये होता है वहाँ प्रेमकी विशुद्धि बनी रहती है। जहाँ प्रेम किसी दूसरे आधारपर उपस्थित हो गया और किसी दूसरेको वह चाहने लगा तब वह प्रेम कलंकित हो जाता है उस प्रेमका केवल प्रेम नाम …

सरस प्रसंग | Saras Prasang Read More »

प्रेम और प्रेमी | Prem Aur Premi

प्रेम और प्रेमी | Prem Aur Premi Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सच्चा प्रेम त्यागमें है एक प्रश्न है कि किसीके शरीरमें बड़ी पीड़ा हो रही है। उसे बिच्छू काट लिया है या अन्य प्रकारकी कोई वेदना है। उस वेदनामें भगवान्‌का मंगलमय विधान है और उसमें भगवान्‌को सुख होता है। इसे …

प्रेम और प्रेमी | Prem Aur Premi Read More »

पद रत्नाकर एक अध्ययन | Pad Ratnakar Ek Adhyayan

पद रत्नाकर एक अध्ययन | Pad Ratnakar Ek Adhyayan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश श्रीपोद्दारजीकी काव्य-रचनाके प्रेरकतत्त्व हिन्दी काव्य जगत्में श्रीपोद्दारजीका उदय ऐसे समयमें हुआ जब भारतीय जनमानस शिक्षा एवं सभ्यताके प्रभावसे भारतीय संस्कृतिके प्रति उत्तरोत्तर उदासीन होता जा रहा था। हमारे साहित्य एवं प्राचीन संस्कृतिके प्रति शिक्षित वर्गकी आस्था उठने …

पद रत्नाकर एक अध्ययन | Pad Ratnakar Ek Adhyayan Read More »

मेरे प्रियतम | Mere Priyatam

मेरे प्रियतम | Mere Priyatam Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश आपने उस दिन पूछा था कि भाईजी सर्वज्ञ हैं कि नहीं। (मनके भीतरकी बात जानना, सब बातें भगवान्‌की तरह जान लेना) एक बात आप सोचिये। आपके सामने जो भाईजीका पाञ्चभौतिक ढाँचा दीखता है, उसके भीतर क्या है। जैसे हम लोग पैदा …

मेरे प्रियतम | Mere Priyatam Read More »

कालिया नाग पर कृपा | Kaliya Naag Par Kripa

कालिया नाग पर कृपा | Kaliya Naag Par Kripa Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश कालीय हृदमें भगवान्का प्रवेश शुकदेवजीने यह लीला-कथा कहना शुरू किया। शुकदेवजीने कहा वृन्दावनमें जो यमुनाजी बहती हैं उनके दक्षिण भागमें एक जलसे भरा हुआ हृद था – सरोवर कुण्ड था। उसमें यह विषधर सर्पराज निवास करता था। …

कालिया नाग पर कृपा | Kaliya Naag Par Kripa Read More »

जैसा बीज वैसा फल | Jaisa Beej Waisa Fal

जैसा बीज वैसा फल | Jaisa Beej Waisa Fal Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश तीर्थयात्राका महत्त्व और परलोकवादकी सत्यता ‘आधुनिक कालमें जन-समुदायका विश्वास तीर्थयात्रा और परलोकवादसे उठता जा रहा है। परंतु यहाँ एक ऐसी घटनाका वर्णन दिया जा रहा है, जो केवल सत्य ही नहीं है वरं जिसकी साक्षीके रूपमें राजस्थान …

जैसा बीज वैसा फल | Jaisa Beej Waisa Fal Read More »

दो महाविभुतियो के प्रसंग: जयदयाल गोयन्दका, हनुमानप्रसाद पोद्दार

दो महाविभुतियो के प्रसंग: जयदयाल गोयन्दका, हनुमानप्रसाद पोद्दार Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सेठजी श्रीजयदयालजी गोयन्दका श्रीसेठजीकी सादी वेशभूषा : काशीमें अध्ययन करते समय एक संस्था के द्वारा सम्मानित सज्जनोंकी सूचीमें सेठ श्रीजयदयाल गोयन्दकाका नाम देखा था। उन्हें ‘भक्तराज’ की उपाधिसे विभूषित किया गया था। मनमें प्रश्न उठा- ये सद्गृहस्थ कौन …

दो महाविभुतियो के प्रसंग: जयदयाल गोयन्दका, हनुमानप्रसाद पोद्दार Read More »

भाईजी चरितामृत | Bhaiji Charitamrita

भाईजी चरितामृत | Bhaiji Charitamrita Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश दादीजीको उनका बड़ा संग रहता था। मैं समझता हूँ–यह कहना नहीं चाहिये पर मेरा विश्वास है कि दादीजीको हनुमान्जीका साक्षात्कार हुआ था। हमारे घरमें उनकी बड़ी प्रतिष्ठा थी और आस-पास के लोग भी उन्हें बहुत मानते थे। उनका असर मेरेपर भी …

भाईजी चरितामृत | Bhaiji Charitamrita Read More »