पद रत्नाकर | Pad Ratnakar PDF

पद का संग्रह – Pad Ratnakar Book/Pustak Pdf Free Download

पद रत्नाकर

साधुभाव, सोपील्य परम, चापल्य मथुर, गाम्भीर्य अपार । गीत-वाद्य-शुचि-नृत्य-कुशलता, ललित अनन्त कला-आगार । जिय-गुण-वर्णन-मुखरा अति, मन मौन, नित्य उद्दीपित भाव ।

स्व-सुख-कल्पनाशून्य सर्वथा, नित्य एक प्रियतम-सुख-चाव । सहज प्रेम प्रतिमा, पर निजी में नित्य प्रेमशून्यता-ज्ञान । आत्मनिवेदनमयता, पर है नहीं समर्पण-स्मृति अभिमान ।

सखी-सहचरी प्रेमविवशता, सबमें गुण-महिमाका भान । सबके सुख में सुखी सदा निज सुखका सहज त्याग निर्मान सौत-प्रियता-सेवा सुखमय प्रियतम-सुख-सम्पादन-जन्य ।

वशीकरण गुणगणमय, परम त्यागमय जीवन धन्य । रति, स्त्रेह अति, प्रणय, मान शुचि, पक्चम राग तथा अनुराग । सप्तम दुर्लभ भाव, प्रेम अष्टम अति महाभाव युत त्याग आठोसे सम्पन्न,

इन्हींकी अगली शुभ परिणतिसे युक्त प्रियतम-महिषी-प्रेयसिंगणमें प्रमुख प्रेम-विवशता मधुर, नित्य अभिसार-प्रियता, प्रिय-स्मृति-लीन । नवजिवनवासिनि, मधुभाषिणि,

परमैश्वर्यमयी, शुचि दीन ममतामयी मधुरी करती प्रय-पद-कड् मधुर-रस-पान। में अभिन्न प्रियतमा श्यामकी’ एक अनन्य अहका भान । अङ्ग-अङ्ग अप्रतिम अमित सौन्दर्य,

अतुल माधुर्य महान दिव्य पवित्र अङ्ग-सौरभ, संतत शुचि अधर मथुर मुसकान पत्र सुधावर्षण ढृष्टिवुत, चलता, यक्रता विशाल दीर्घ कृष्ण कच, सोह चन्द्रिका, वेणि-सगुम्फित मालति-मातल सुमारता,

सहज श्री सुषमा, प्रियदर्शना विलक्षण सूप सहज सरलता परम बुद्धिमान, सेवा रति धैर्य अनूप निल्य विरह-कानरता, मिलनीत्कण्टठा नित्य-मिलन अनुभूति निरव माने,

विमल विभूति विनयशीत्दना शचि विनम्रता सर्वत्यागमयता अति पूत अति करता, कार्यकुशलता रस-सम्भूत राधा अनियारे-रतनारे लोचन सौं, कछु भौँह मरोरी पग-पैजनि,

दोउ चरन महावर, करधनि धुनि मनु मधु-रस घोरी दरपन कर, सोहत मुकता-मनि-हार हदै, मुदु हैं सनि ठगोरी नैननि बर अंजन मन-रंजन, चित्त-वित्त-हर नित बरजोरी नील बसन,

परम मधुर मूरति सनेह की, चिदानंदमय चोखी मन-बचननि ते परे दिब्य दंपति अनादि अति सोहनि पटतर नहिं कोउ, भई, न होइहै, जोड़ी मोहन-मोहनि प्रेमी-प्रेमास्पद दोउ नित ही,

नित्य एक, द्वै देही नित्य रास-रस-मत्त, मत्ततारहित सुचारु सनेही ब्रज-निकुंज प्रगटे दोउ रसमय, रसिक जननि सुख-हेतु करत नित्य लीला तहँ सुललित रस केतु सेवक मोहि करो ,

लेखक हनुमान प्रसाद-Hanuman Prasad
Gita Press
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 929
Pdf साइज़92.1 MB
Categoryसाहित्य(Literature)

पद रत्नाकर – Pad Ratnakar Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *