तीन नन्हे खरगोश सचित्र | Teen Nanhe Khargosh

तीन नन्हे खरगोश | Teen Nanhe Khargosh Book/Pustak PDF Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

एक समय की बात है कि कहीं किसी जगह तीन नन्हे खरगोश रहते थे. तीनों अपने माता और पिता के साथ ज़मीन के अंदर एक आरामदायक बिल में रहते थे.

एक दिन उनके पिता ने उन्हें बुलाया. “अब तुम बड़े हो गए हो,” उसने कहा. “समय आ गया है कि घर से जाकर तुम बाहर का संसार देखो. लेकिन सबसे पहले अपने लिए एक सुरक्षित बिल खोद लेना. और अगर कभी कोई लोमड़ी आ जाये तो……”

“हमें ज़मीन के अंदर बिल में छिप जाना होगा, ” तीनों ने एक साथ चिल्लाकर कहा.

तीनों नन्हे खरगोशों ने अपने माता-पिता को अलविदा कहा और, दुनिया देखने के लिए, फुदकते हुए घर से चल दिए.

वह बहत निडर और उत्साहित थे. आखिरकार, वह बड़े हो गए थे. जैसा उनसे कहा जाता था वैसा ही करने की अब कोई आवश्यकता नहीं थी. जो उनका मन चाहता, वो करने को वह अब पूरी तरह स्वतंत्र थे.

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 14
PDF साइज़1 MB
Categoryकहानियाँ(Story)

तीन नन्हे खरगोश | Teen Nanhe Khargosh Book/Pustak PDF Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *