संस्मरण जो भुलाया न जा सकेंगे | Sansmaran Jo Bhulaya Na Ja Sakenge

संस्मरण जो भुलाया न जा सकेंगे | Sansmaran Jo Bhulaya Na Ja Sakenge Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश घृणा, विद्वेष, चिड़चिड़ापन, उतावली. अधैर्य, अविश्वास यही सब उसकी संपत्ति थे। यो कहिये कि संपूर्ण जीवन ही नारकीय बन चुका था, उसके बौद्धिक जगत् में जलन और कुदन के अतिरिक्त कुछ भी तो …

संस्मरण जो भुलाया न जा सकेंगे | Sansmaran Jo Bhulaya Na Ja Sakenge Read More »

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सच्चे अतिथि महाराष्ट्र के संत श्री एकनाथ जी को छह मसखरे युवक सदा तंग किया करते थे। एक बार एक भूखा ब्राह्मण उस गाँव में आया और भोजन की याचना की। गाँव के उन्हीं दुष्ट-जनों मे उससे …

प्रेरणा भरे पावन प्रसंग | Prerna Bhare Pawan Prasang Read More »

विचित्र रामायण ऑडिया | Vichitra Ramayana

विचित्र रामायण ऑडिया | Vichitra Ramayana Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश यह सुनकर जनक ने पूछा, हे सुन्दरि ! बताओ। किस प्रकार से हमें कन्या प्राप्त होगी ? राजा की बात सुनकर अप्सरा मेनका बोली हे ब्रह्मचारी (ब्रह्म में विचरण करनेवाले योगी)! सुनो, में समस्त वृत्तान्त कह रही है । २ …

विचित्र रामायण ऑडिया | Vichitra Ramayana Read More »

व्यक्तिविवेक | Vyakti Viveka

व्यक्तिविवेक | Vyakti Viveka Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश ‘काज्यविशेषः’ के समर्थन में एक युक्ति और दी गई। उसमें कहा गया कि भले ही रसात्मक सन्दर्भ कान्य हो किन्तु जब उसमें उसके वस्तु आदि भवान्तर व्यङ्ग्यों का समावेश हो तब तो वैशिष्टय आ ही जायगा। इस पर अनुमितिवादी ने उत्तर दिया। …

व्यक्तिविवेक | Vyakti Viveka Read More »

भागवद्गीता गूढार्थ दीपिका | Bhagavad Gita With Gudartha Dipika

भागवद्गीता गूढार्थ दीपिका | Bhagavad Gita With Gudartha Dipika Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश जो पदार्थ किसोमी स्थानविये प्रत्यक्ष हो है तिस पदार्थकाही अन्य स्थानविषे अनुमान होवै है । सर्वथा अप्रत्यक्ष पदार्थका अनुमान होवै नहीं। जैसे गृहादिक स्थानोंबिपे प्रत्यक्ष जो अग्नि है ता अफ्रिकी धूम विपे व्याप्ति निश्चयकारकै यह पुरुप पर्वतविपे …

भागवद्गीता गूढार्थ दीपिका | Bhagavad Gita With Gudartha Dipika Read More »

जैन रामायण | Jain Ramayana

जैन रामायण | Jain Ramayana Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश राक्षसवंश और वानरवंशकी उत्पत्ति । अंजनके समान कान्ति बाले, हरिवंशमें चंद्रमाके समान श्री ‘ मुनिसुव्रतस्वामी, अरिहंतके तीर्थमें बलदेव ‘राम ( पद्म ) वासुदेव ‘ लक्ष्मण – ( नारायण ) और प्रतिवासु देव ‘रावण’ उत्पन्न हुए थे । उन्हींके चरित्रोंका अ वर्णन …

जैन रामायण | Jain Ramayana Read More »

ऑडिया जगमोहन दाण्डी रामायण | Odia Jagmohan Dandi Ramayan

ऑडिया जगमोहन दाण्डी रामायण | Odia Jagmohan Dandi Ramayan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश ओड़ीसा के पंचसखा साधक मत्त बलरामदास और उनकी जगमोहन अथवा दाण्डि रामायण जिस प्रकार उत्तर भारत में गोस्वामी तुलसीदास के “रामचरितमानस” का घर-घर में प्रचार है। वही स्थिति ओड़ीसा में भक्त शिरोमणि बलराम दास जी की जगमोहन …

ऑडिया जगमोहन दाण्डी रामायण | Odia Jagmohan Dandi Ramayan Read More »

छन्द रामायण | Chhand Ramayan PDF In Hindi

छन्द रामायण | Chhand Ramayan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश विद्वानों की दृष्टि में छन्द रामायण मैंने श्री महेशचन्द्र शुक्ल की काव्यकृति ‘छन्दरामायण’ की। पाण्डु लिपि का आद्योपांत अवलोकन किया। भारत मे रामकथा इतनी पिष्टपेषित तथा चबित चर्वण हैकि इसमें कुछ नया नहीं सोचा जा सकता, परन्तु अन्दरामायण’ को पढ़कर मुझे …

छन्द रामायण | Chhand Ramayan PDF In Hindi Read More »

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम (सन 1748 से 1947 तक) | Bhatritya Swatantra Sangram

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम (सन 1748 से 1947 तक) | Bhatritya Swatantra Sangram Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश अंग्रेज सैनिकों द्वारा निर्मम अत्याचार भारतीय सशस्त्र राष्ट्रीय आन्दोलन में जो हिंसा भड़की थी, प्रायः इतिहासकार उसकी निन्दा करते हैं। उनके मतानुसार विद्रोही सैनिकों ने भयानक, बीभत्स और घोर अत्याचार किये हैं। पं. नेहरू …

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम (सन 1748 से 1947 तक) | Bhatritya Swatantra Sangram Read More »

अवधूत गीता | Avadhut Gita With Sanskrit

अवधूत गीता | Avadhut Gita Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश दूसरी प्रिय वस्तु नष्ट होजाती है तब पुल्प अपनेको और संसारको दुःखी होकर विकार देने लगता है और कुछ काटके पीछे जव कि तिसका मन संसारके दूसरे पदार्थोंकी तरफ लग जाता है तत्र वह वैराग्य मी तिसको मूलजाताहै इसीका नाम मन्द …

अवधूत गीता | Avadhut Gita With Sanskrit Read More »

सुनसान के सहचर | Sunsan Ke Sahchar

सुनसान के सहचर | Sunsan Ke Sahchar Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश इसे एक सौभाग्य, संयोग ही कहना चाहिए कि जीवन को आरम्भ से अन्त तक एक समर्थ सिद्ध पुरुष के संरक्षण में गतिशील रहने का अवसर मिल गया । उस मार्गदर्शक ने जो भी आदेश दिए वे ऐसे थे जिनमें …

सुनसान के सहचर | Sunsan Ke Sahchar Read More »

शब्द ब्रह्म नाद ब्रह्म | Shabd Brahm Naad Brahm

शब्द ब्रह्म नाद ब्रह्म | Shabd Brahm Naad Brahm Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश स्वर से ‘अक्षर’ की अनुभूति पुराणों में एक आख्यायिका आती है। देवर्षि नारद ने एक बार लंबे समय तक यह जानने के लिए प्रव्रज्या की कि सृष्टि में आध्यात्मिक विकास की गति किस तरह चल रही है …

शब्द ब्रह्म नाद ब्रह्म | Shabd Brahm Naad Brahm Read More »

मन साधे जीवन सधै | Man Sadhe Jeevan Sadhai

मन साधे जीवन सधै | Man Sadhe Jeevan Sadhai Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश कहा जाता है – ” मन के हारे हार है, मन के जीते जीत।” यह साधारण-सी लोकोक्ति एक असाधारण सत्य को प्रकट करती है और वह है- मनुष्य के मनोबल की महिमा। जिसका मन हार जाता है, …

मन साधे जीवन सधै | Man Sadhe Jeevan Sadhai Read More »

मनोविकार सर्वनाशी महाशत्रु | Psychosis Is Dangerous In Hindi

मनोविकार सर्वनाशी महाशत्रु | Psychosis Is Dangerous Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश मानसिक अवसाद का घातक प्रभाव शरीर पर मन का नियंत्रण है इस तथ्य को हम प्रतिक्षण देखते हैं। मस्तिष्क की इच्छा और प्रेरणा के अनुरूप प्रत्येक अंग कार्य करता है। प्रत्यक्ष रूप से दिखाई देने वाले क्रिया-कलाप हमारी मानसिक …

मनोविकार सर्वनाशी महाशत्रु | Psychosis Is Dangerous In Hindi Read More »

विकृत चिंतन : रोग शोक का मूलभूत कारण | Vikrit Chintan

विकृत चिंतन : रोग शोक का मूलभूत कारण | Vikrit Chintan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश समस्त विग्रहों की जड़ अहंकार संसार में जितने भी द्वन्द्व, संघर्ष, विग्रह और युद्ध हुए हैं उनके कारणों का यदि अध्ययन किया जाय तो वे अनेक नहीं होंगे। दो व्यक्तियों की आपसी लड़ाई और दो …

विकृत चिंतन : रोग शोक का मूलभूत कारण | Vikrit Chintan Read More »