शनि के उपाय | Shani Ke Upay Lal Kitab PDF In Hindi

शनि के उपाय एवम टोटके – Shani Ke Upay Evam Totake Book/Pustak PDF Free Download

पुस्तक में समाविष्ट मुद्दे

  • ग्रहों की चाल और आपका जीवन
  • ग्रह बोलते हैं ग्रह-नक्षत्रों का ज्ञान
  • ग्रहों की स्थिति
  • ग्रह तत्व
  • ग्रहों के लिंग भेद
  • ग्रहों की दिशा
  • ग्रह- लोक
  • राशियों के स्वामी ग्रह
  • राशियों के अनुसार अक्षर तालिका नक्षत्र और उनके स्वामी ग्रह
  • ग्रहों का राशियों से सम्बन्ध
  • कुछ विशेष शब्दों का ज्ञान तिथियों के स्वामी
  • हिन्दी महीनों के नाम
  • उच्च और नीच ग्रह
  • सूर्य के साथी ग्रह और धार्मिक ग्रह
  • ग्रहों के बल
  • स्वगृही ग्रह और स्पष्ट ग्रह राहु-केतु का फलाफल विचार
  • ग्रहों का मैत्री चक्र नैसर्गिक मैत्री चक्र
  • ग्रहों की तात्कालिक मैत्री और शत्रुता
  • पंचधा मैत्री चक्र
  • ग्रह नाम संज्ञा
  • उच्च राशि ग्रहों के फल
  • ग्रहों का राशियों से सम्बन्ध
  • राशि तत्व
  • मानव अंगों में राशियों का स्थान
  • मासों (महीनों) का फलादेश तिथियों का फलादेश
  • भाव ग्रह भाव क्या है ?
  • भाव के स्वामी ग्रह
  • कुण्डली के किस भाव से क्या विचार करें ?
  • भाव चक्र से अंगों का विचार कुण्डली से अंगों का विचार
  • कुटुम्ब का विचार
  • दिशाओं का विचार
  • भाव चक्र में उच्च ग्रहों का स्थान
  • भाव चक्र में नीच ग्रहों का स्थान भाव चक्र (कुण्डली) में राशियों और ग्रहों का स्थान
  • विशेष ज्ञान|
  • सौरमण्डल में शनि ग्रह की स्थिति
  • पौराणिक आख्यान (कथा)
  • शनि ग्रह से सम्बन्धित कुछ विशेष तथ्य
  • शनि की स्थिति|
  • द्वादश भावों में शनि का फल |शनि का राशिगत प्रभाव (फल)
  • शनि की शुभ एवम् अशुभ दशाओं का फल शनि और सूर्य के योग से द्वादश भावों का फल
  • शनि और चन्द्र के योग का फल शनि और मंगल के योग का फल
  • शनि और बुध के योग का फल
  • शनि और वृहस्पति के योग का फल शनि और शुक्र के योग का फल
  • शनि की साढ़ेसाती
  • शनि की साढ़ेसाती क्या है ?
  • शनि के साढ़ेसाती की स्थितियां
  • शनि जन्म राशि के अनुसार उत्पन्न जातकों पर साढ़ेसाती का विशेष घातक समय
  • शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के सामान्य उपाय
  • शनि की साढ़ेसाती लाभ भी देती है….. या नहीं! शनि की साढ़ेसाती एवम् ढैय्या के चरण
  • मेष राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)
  • वृष राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके) मिथुन राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)
  • कर्क राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)
  • सिंह राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके) कन्या राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)
  • तुला राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)
  • वृश्चिक राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)
  • धनु राशि की साढ़ेसाती (उपाय एवम् टोटके)

ग्रहों की चाल और आपका जीवन

सौरमण्डल से स्थित नवग्रहों, नक्षत्रों तथा राशियों का मानव जीवन पर पूरा प्रभाव पड़ता है। इतना ही नहीं, ग्रहों तथा राशियों का मानव जीवन पर पूरा प्रभाव पड़ता है।

इतना ही नहीं, ग्रहों के अनुकूल एवम् प्रतिकूल प्रभाव के कारण ही वर्षा, तूफान, महामारी, अकाल एवम् अन्य अनेक प्रकार की सुखद तथा दु:ख पूर्ण घटनाएं घटित होती हैं।

नक्षत्रों के प्रभाव से ही मानव जीवन में उतार-चढ़ाव आता है। बालक (बच्चे) का जन्म जिस समय होता है, उस समय कौन सा काल था, किस लग्न में बालक का जन्म हुआ, उस समय का मुहूर्त, राशि, काल आदि की गणना करके ज्योतिषाचार्य बालक अथवा उस व्यक्ति की ‘जन्म कुण्डली’ बनाते हैं।

जन्म कुण्डली के लिए निश्चित समय (जन्म-समय) तिथि (तारीख) का ज्ञान होना परम आवश्यक है अन्यथा ‘ कुण्डली’ त्रुटिपूर्ण हो सकती है इसमें ज्योतिषाचार्य (कुण्डली बनाने वाले विद्वान का कोई दोष न होगा।

कुण्डली देखकर यह ज्ञात हो जाता है कि जातक (जिसकी कुण्डली है) पर कौन सा ग्रह उसके सम्पूर्ण जीवन में विशेष प्रभावी होगा।

प्रश्न बनता है कि–’जन्म-कुण्डली’ क्या है ? पाठकों-‘जन्म-कुण्डली’ वह दर्पण है जो सम्बन्धित व्यक्ति के भूत, भविष्य और वर्तमान अर्थात् तीनों कालों को उजागर करके दर्पण के मानिन्द (भांति) उस व्यक्ति के सामने रख देते हैं

कि किस समय तुम आर्थिक स्थिति सम्पन्न होंगे, कब तुम्हारा भाग्योदय होगा, कब तुम धनवान बनोगे, कौन सा ग्रह तुम्हारे सम्पूर्ण जीवन में विशेष प्रभावी रहेगा, कब तुम्हारे सामने कठिन घड़ियां आयेंगी तथा तुम्हारी आयु कितनी है ?

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 116
PDF साइज़49.6 MB
CategoryReligious

शनि के उपाय लाल किताब – Shani Ke Upay Book/Pustak PDF Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *