सामाजिक अनुसंधान | Samajik Anusandhan PDF

सामाजिक अनुसंधान – Social Research Hindi Book Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

अनेक बार हम कुछ ऐसी बातें कह जाते हैं जिनकी सत्यता को साबित करने की हम आवश्यक्ता नही समझते। ये बातें हम सामान्य बुद्धि अथवा हमारे सामाजिक जीवन के व्यावहारिक अवलोकन के आधार पर कहते हैं।

हो सकता है कभी कभी ये बातें बुद्धिमता पर भी आधारित हो। फिर भी ये बातें पসাय अज्ञान, पूर्वाप्रह अथवा त्रुटिपूर्ण निरूपण के आधार पर ही कही जाती हैं।

इस प्रकार हम कह सकते है कि सामान्य बुद्धि का ज्ञान हमारे सचित अनुभवों, पूर्वामहों तथा अन्य लोगों की आस्या पर आधारित होता है ।

अत यह प्राय विरोधाभासी व असगत होता है। इसके विपरीत, वैज्ञानिक अवलोकन पुष्टि योग्य সमाणों अपवा ठोस सबूतों पर ही आधारित होता है और इमे उध्दृत भी किया जा सकता जा सकता है।

उदाहरण के लिए सामान्य बुद्धि पर आधारित इस प्रकार की बाते कर जाते हैं जैसे पुरुष स्त्रियों से अधिक बुद्धिमान होते हैं,

शादीशुदा लोग अविवाहित लोगों से अधिक प्रसन्न रहते हैं, उच्च जाति के लोग निम्न जाति के लोगों से अधिक प्रतिभावान होते है, गांव में रहने वाले लोग शहरवासियों से अधिक परिश्रमी होते हैं ।

इसके विपरीत वैज्ञानिक अनुसंधान तथा जांच से यह तथ्य सामने आते है-स्त्रियां पुरुषों के समान री बुद्धिमान होती है,

प्रसन्नता या आनद तथा विवाह करने अथवा न करने के बीच कोई सम्बध नही होता, लोगो की कार्यकुशलता पर जाति का कोई प्रभाव नही पडता,

वठिन परिश्रम केवल पर्यावरण से सम्बन्धित नही होता। इस प्रकार सामान्य बुद्धि के आधार पर कही गई बातें केवल, अनुमान व पूर्वाभास पर आधारित तथा अव्यवस्थित रूप से कही जाती हैं।

सामान्यत ये बाने, अज्ञान, पूर्वामह अथवा त्रुटिपूर्ण निरूपण पर तो आधारित होती हैं।

लेखक राम आहूजा-Ram Ahuja
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 429
Pdf साइज़7 MB
Categoryविषय(Subject)

सामाजिक अनुसंधान – Research Methodology Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *