अपने और सपने | Apne Aur Sapne PDF In Hindi

अपने और सपने – Apne Aur Sapne Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

चम्पारन के कथिों गीतकारों को ने सभी ल्वितियो सहै, जो रत गीतों और कविताओं की संरबना के लिए । बें परिल्वितियां औ शामने है ी विवय करती हैं चित्र और संघर्ष के लिए

इस सन्यर्म का] आारण्न] कृव] गगेव गाठ्यक (पटखौली) से करने दिया जाय । गणेश पाजामे एक मौन साधक का जीवन जीत हुए लम्बी कास्य यात्रा को है ।

भाषों और काव्य- शिक्षा की हष्टि मे गरणन पाटक अलग देखते हैं एक छन्द प्रस्तुत है “वैभव के बन्धन में मत बाँधों कवियों को बे नीक गगन के पनछी हैं,

उड़ जाने दो ; मत बांधो उनकी गति सोने की डोरी से तिनकों से अपना प्यारा महल सजाने दो !गणेश पाठक ने कल्पनाओं के तिनके से जो बालीशान महल बनाया,

उसे एन्बोनी दीपक ( रामनगर ) ने मधुर अनुमतियों, नवे विचारों के संवारने का प्रयास किया ।एन्योनी ‘दीपक’ की रचनाओं के दो संग्रह ‘परिचय’ और ‘दीपक के गीत’ प्रकाशित ।

तुम चाह रहे धरती पर स्वर्ग उतर जाए.मैं चाह रहा धरती ही सजे संवर जाए। कण-कण का रूप निखर जाए । सुषमा की रानी नित करती अठलेली है, नन्दन कानन की घटा बड़ी अलबेली है।

होरे मोती हैं खिले कल्प को डाली में सपनों का यह जग सुन्दर एक पहेली है । एन्थोनी ‘दीपक’ ने कई विधाबों में रचना की है। दीपक ने एक खण्ड-काव्य ‘ताज’ (अप्रकाशित) लिखा और अपनी खुली चों ताजमहल को देखने का प्रयास किया।

पाण्डेय जाशुतोष (ज० १९३६, गलकौसी बगहा ) ने नये संकल्प, नए परिवेश के साथ काम्य की कई नई विधाजों को बपनी सशक्त रचनानों से अलंकृत किया। इस प्रकार कभी पौष की बारती उतारी, कभी

लेखक रमेशचंद्र झा-Rameshchandra Jha
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 6
Pdf साइज़1 MB
Categoryसाहित्य(Literature)

अपने और सपने – Apne Aur Sapne Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.