श्री गुरु ग्रंथ साहिब | Sri Guru Granth Sahib

श्री गुरु ग्रंथ साहिब | Sri Guru Granth Sahib Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

नानक की प्रभ बेनती प्रभ मिलहु परापति होइ ॥ वैसाबु सुहावा तां लगै जा संतु भेटै हरि सोइ ॥ ३॥ हरि जेठि जुडंदा लोड़ीऐ जिसु अगै सभि निवंनि ॥ हरि सजण दावणि लगिआ किसै न देई बंनि ॥

माणक मोती नामु प्रभ उन लगै नाही संनि ॥ रंग सभे नाराइणे जेते मनि भावंनि ॥ जो हरि लोड़े सो करे सोई जी करंनि ॥ जो प्रभि कीते आपणे सेई कहीअहि धंनि ॥

आपण लीआ जे मिले विछुड़ि किउ रोवंनि ॥ साधू संगु परापते नानक रंग माणंनि ॥ हरि जेठु रंगीला तिसु धणी जिस के भागु मनि ॥४॥ आसाङ्ड तपंदा तेरे लगै हरि नाहु न जिंना पासि ॥

जगजीवन पुरखु तिआगि के ं माणस संदी आस ॥ दुयै भाइ विगुचीऐ गलि पईसु जम की फास ॥ जेहा बीजै सो लुणे मथै जो लिखिआसु ॥ रैणि विहाणी पछुताणी उठि चली गई निरास ॥

जिन को साधू भेटीऐ सो दरगह होइ खलासु ॥ करि किरपा प्रभ आपणी तेरे दरसन होइ पिआस ॥ प्रभ तुधु बिनु दूजा को नही नानक की अरदासि ॥ आसाड सुहंदा तिसु लगै जिसु मनि हरि चरण निवास ॥५॥

सावणि सरसी कामणी चरन कमल सिउ पिआरु ॥ मनु तनु रता सच रंगि इको नामु अधारु ॥ बिखिआ रंग कूड़ाविआ दिसनि सभे छारु ॥ हरि अमृत बूंद सुहावणी मिलि साधू पीवणहारु ॥

वणु तिणु प्रभ मंगि मउलिआ समथ पुरख अपार ॥ हरि मिलणै नो मनु लोचदा करमि मिलावणहारु ॥ जिनी सखीए प्रभु पाइआ हंउ तिन के सद बलिहार ॥ नानक हरि जी मइआ करि सबदि सवारणहारु ॥

सावणु तिना सुहागन जिन राम नामु उरि हारु ॥६॥ भादुइ भरमि भुलाणीआ दूजै लगा हेतु ॥ लख सीगार बनाइए कारजि नाही केतु ॥ जितु दिनि देह बिनससी तितु वेलै कहसनि प्रेतु ॥

पकड़ि चलाइनि * दूत जम किसे न देनी भेतु ॥ छडि खड़ोते खिनै माहि जिन सिउ लगा हेतु ॥ हथ मरोई तनु कपे सिआहहु होआ सेतु ॥ जेहा बीजै सो लुणै करमा संदड़ा खेतु ॥

लेखक गुरु ग्रंथ साहिब-Guru Granth Sahib
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 1492
Pdf साइज़7.2 MB
Categoryधार्मिक(Religious)

श्री गुरु ग्रंथ साहिब | Sri Guru Granth Sahib Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *