नवोदय | Navodaya Book PDF In Hindi

नवोदय – Navodaya Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

मेरी अभिनव प्रकाशन-यात्रा के क्रम में पह छी काव्य कृति (बयनिका) बालक-बालिकाओं के जीवननिर्माण के सन्दर्भ में प्रस्तुत है- ‘नबोव नवोदय की महत्वानुभूति मानव-समाज को प्रति दिन प्रात काल ही होती है

इसी प्रकार वालक बालिकाओं के जीवन-निर्माण का महत्व भी प्रत्यक्ष एवं निर्विवाद है। यसुत वे ही तो राष्ट्र के भावी आशा-कुसुम एवं निर्माता और कपणयार हैं ।

महत्व उनकी बड़ी संख्या का नहीं अपितु सम्यक, पोषण, संरक्षण, शिक्षण प्रशिक्षण और मार्गदर्शन का है, और है सम्यक् अभिभावकत्व फा भी उनके प्रति माता-पिता, अन्य अभिभावकगण, शिक्षक-वृन्द, शिक्षण संस्थानों और समग्र राष्ट्र का दायित्य है।

इन सारे विषयों को काव्यवाणी में उजागर करना ही इस कृति का उद्देश्य है । दुःख है कि प्रकाशन-साधन के अभाव में ‘युवाज्योति’ की भौति इसे भी अत्यन्त संक्षिप्त रखना पड़ा है।

यदि बालक-बालिकाओं के जीवन निर्माण से सम्बद्ध पक्ष इसपर समुचित ध्यान देंगे और लाभान्वित होंगे तो रचयिता अपने श्रम ह। सार्यक मानेगा। अस्तु ।

साधनाभाव कम हो सकता था यदि मैंने विशिष्ट हिन्दी सेपी-सम्मान की (ग्यारह हजार रु.) राशि बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन को हिन्दी साहित्यकार कल्याणकोष की स्थापना

हेतु एवं बिहार पत्रकार कल्याण-कोष को अ्पित न कर दी होती। किन्तु मैं तो अपनी इस सिद्धान्तनिष्ठा पर दूध था कि सेवा का मूल्य नहीं लेना चाहिए। १९८२ ई. में भी पुरस्कार के रूप

में रारकार रो प्राप्त दरा हजार रु. की राशि अपने लिए नहीं रखी थी अपनी इरा सिद्धान्तनिष्ठा के कारण । मैं सिद्धान्त से बढ़कर किसी भी वस्तु को नहीं मानता और न कभी भी मानूंगा। महत्व उनकी बड़ी संख्या का नहीं अपितु सम्यक,

पोषण, संरक्षण, शिक्षण प्रशिक्षण और मार्गदर्शन का है, और है सम्यक् अभिभावकत्व फा भी उनके प्रति माता-पिता, अन्य अभिभावकगण, शिक्षक-वृन्द, शिक्षण संस्थानों और समग्र राष्ट्र का दायित्य है।

लेखक रामदयाल पांडे-Ramdayal Pandey
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 53
Pdf साइज़3.5 MB
Categoryसाहित्य(Literature)

नवोदय – Navodaya Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.