जय अम्बे आरती | Jai Ambe Gauri Aarti PDF In Hindi

जय अम्बे गौरी आरती अर्थ सहित- Jai Ambe Gauri Aarti PDF Free Download

नियमित रूप से अम्बे तू है जगदम्बे काली आरती का जप करना माँ अम्बे को प्रसन्न करने और आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है । अम्बे माता आद्य शक्ति है जो सर्वोच्च शक्ति है । वह माँ दुर्गा की अभिव्यक्ति है और देवी पार्वती का दूसरा नाम है। ‘अंबे तू है जगदम्बे काली’ एक हिंदू भजन (आरती) है जो भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती देवी को समर्पित है ।

जय अम्बे गौरी आरती | Jai Ambe Gauri Aarti Lyrics in Hindi

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी….. जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री।।
जय अम्बे गौरी,…।
मांग सिंदूर बिराजत, टीको मृगमद को। उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रबदन नीको।।
जय अम्बे गौरी,…।

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै। रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै।।
जय अम्बे गौरी,…।

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्परधारी। सुर-नर मुनिजन सेवत, तिनके दुःखहारी।।
जय अम्बे गौरी,…।

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती। कोटिक चंद्र दिवाकर, राजत समज्योति।।
जय अम्बे गौरी,…।

शुम्भ निशुम्भ बिडारे, महिषासुर घाती। धूम्र विलोचन नैना, निशिदिन मदमाती।।
जय अम्बे गौरी,…।

चण्ड-मुण्ड संहारे, शौणित बीज हरे। मधु कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे।।
जय अम्बे गौरी,…।

ब्रह्माणी, रुद्राणी, तुम कमला रानी। आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी।।
जय अम्बे गौरी,…।

चौंसठ योगिनि मंगल गावैं, नृत्य करत भैरू। बाजत ताल मृदंगा, अरू बाजत डमरू।।
जय अम्बे गौरी,…।

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता। भक्तन की दुःख हरता, सुख सम्पत्ति करता।।
जय अम्बे गौरी,…।

भुजा चार अति शोभित, खड्ग खप्परधारी। मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी।।
जय अम्बे गौरी,…।

श्री मालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योति।।
जय अम्बे गौरी,…।

अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै। कहत शिवानंद स्वामी, सुख-सम्पत्ति पावै।।
जय अम्बे गौरी,…।

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 3
PDF साइज़0.15 MB
CategoryReligious

माँ अम्बे आरती अर्थ सहित

ॐ जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।
तुमको निशदिन ध्यावत, मैया जी को सदा मनावत, हरि ब्रह्मा शिवरी ।

ॐ जय अम्बे गौरी 

जय हे माता गौरी। शक्तिशाली त्रिमूर्ति – ब्रह्मा, विष्णु और शिव – दिन-रात आपका ध्यान करते हैं|(1)

मांग सिंदूर विराजत टीको मृगमदको।
उज्जवल से दोऊ नैना चन्द्रवदन नीको॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(2)

उज्ज्वल सिंदूर आपके माथे को सजता है, कस्तूरी की खुशबू मंत्रमुग्ध करती है। आपकी आंखें टिमटिमाती हैं, और आपका खूबसूरत चेहरा मंत्रमुग्ध कर देने वाले चंद्रमा जैसा दिखता है।(2)

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजे।
रक्त पुष्प गल माला कण्ठन पर साजे॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(3)

आपका शरीर सोने(Gold) की तरह चमकता है, और आपका लाल रंग वर्तनी है। और लाल फूलों की माला आपकी गर्दन को सजाती है।

केहरि वाहन राजत खड्ग खप्पर धारी।
सुर नर मुनि जन सेवत तिनके दुःख हारी॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(4)

हे देवी, आप एक शेर पर आरूढ़ हैं। आप अपने हाथों में एक खोपड़ी और एक तलवार रखते हैं। आप संतों, पुरुषों और अपने सभी दुःखों के संतों का उद्धार करने वाले हैं।

कानन कुंडल शोभित नासाग्रे मोती।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत सम ज्योति॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(5)

आपके झुमके और मोती की नाक की अंगूठी मनोरम दिखती है, और आप एक प्रकाश का उत्सर्जन करते हैं जो एक हजार सूर्य चन्द्र से अधिक चमकदार है|

शुंभ निशंभु विदारे महिषासुरधाती।
धूम्रविलोचन नैना निशदिन मदमाती॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(6)

हे देवी, राक्षसों शुम्भ, निशुम्भ, महिषासुर और धुम्रिलोचन जैसे दैत्य का वध कराने वाली हो| आपकी आँखें रात्रि और दिन में क्रोध को दर्शाती हैं।

चण्ड मुण्ड संहारे शोणित बीज हरे।
मधु कैटभ दोउ मारे सुर भयहीन करे॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(7)

माँ देवी की जय, जिन्होंने चंड और मुंड, रक्षाबीज, मधु और कैताभ का सर्वनाश किया। आप ही हैं जो डर को खत्म करते हैं।

ब्रम्हाणी रुद्राणी तुम कमलारानी।
आगम निगम बखानी तुम शिव पटरानी॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(8)

आप ब्रम्हाणीकमलारानी और रुद्राणी हैं। आप शिव के हृदय के परम शासक हैं।

चौसंठ योगिनी गावत नृत्य करत भैरुँ।
बाजत ताल मृदंगा अरु डमरुँ॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(9)

चौंसठ योगिनियाँ मृदंगा और डमरू की धुनों पर आपकी उपस्थिति में नाचती-गाती हैं।

तुम ही जग की माता तुम ही हो भरता।
भक्तन की दुःखहर्ता सुख सम्पत्ति कर्ता॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(10)

आप इस ब्रह्मांड की माता हैं, आप उद्धारकर्ता हैं। आप भक्तों को उनकी परेशानियों से छुटकारा दिलाते हैं| और आप खुशी और समृद्धि के दाता हैं।

भुजा चार अति शोभित वर मुद्रा धारी।
मनवांच्छित फल पावे सेवत नर नारी॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(11)

आप अपने बच्चों को आशीर्वाद देने के लिए वरमुद्राओं को धारण करते हैं| जो आपकी पूजा करते हैं, वे सभी अपनी इच्छा के अनुरूप फल को प्राप्त करते है|

कंचन थाल विराजत अगर कपुर बात्ती।
श्री माल केतु में राजत कोटि रतन ज्योति॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी।
(12)

अगरबत्ती, कपूर जैसी वस्तुएं आपके लिए एक सुनहरी थाली में रखी जाती हैं| आपकी रोशनी करोड़ों रत्नों की तुलना से भी अधिक है|

या अम्बे जी की आरती जो कोई नर गाये।
कहत शिवानंद स्वामी सुख संपत्ति पाये॥
जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी॥
(13)

शिवानंद स्वामी कहते हैं, जो प्रतिदिन आरती गाता है, वह सुख और धन-धान्य से संपन्न हो जाता है।

जय अम्बे गौरी आरती अर्थ सहित- Jai Ambe Gauri Aarti PDF Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.