उत्तरप्रदेश का इतिहास | History of Uttar Pradesh PDF In Hindi

‘उत्तर प्रदेश का इतिहास बताइए’ PDF Quick download link is given at the bottom of this article. You can see the PDF demo, size of the PDF, page numbers, and direct download Free PDF of ‘Tell the history of Uttar Pradesh’ using the download button.

उत्तर प्रदेश का इतिहास और जानकारी – History and Information of Uttar Pradesh PDF Free Download

उत्तर प्रदेश का इतिहास

उत्तर प्रदेश के मध्यकालीन और आधुतनक इतिहास पर कल और परसोृंएक लेख होगा।
• उत्तर प्रदेश मेंिाम्र-पाषातणक सृंस्कर ति के साक्ष्य मेरठ और सहारनपुर सेप्राप्त हुए है।

• उत्तरप्रदेश मेंपुरापाषाण कालीन सभ्यिा के साक्ष्य इलाहाबाद के बेलन घाटी, सोनभद्र के तसिंगरौली घाटी िथा चिंदौली केचतकया नामक पुरास्थलोृंसेप्राप्त हुए हैं।

• बेलन नदी घाटी के पुरास्थलोृंकी खोज एवृं खुदाई इलाहाबाद तवश्वतवद्यालय के प्रोफे सर जी- आर- शमााकेतनदेशन मेंकराई गई।

• बेलन घाटी के ‘लोहदानाला’ नामक पुरास्थल सेपाषाण उपकरणोृंके साथ-साथ एक अस्थि- तनतमाि मािृदेवी की प्रतिमा भी प्राप्त हुई है।

• मध्य पाषाणकालीन मानव अल्कस्थ-पृंजर के कु छ अवशेष प्रिापगढ केसरायनाहर राय ििा महदहा नामक स्थान सेप्राप्त हुए हैं।

• नवीनिम खोजोृंकेआधार पर भारिीय उपमहाद्वीप मेंप्राचीनिम कर तष साक्ष्य वाला स्थल उत्तर प्रदेश के सृंि कबीर नगर तजलेमेंल्कस्थि लहुरादेव है।

• यहाृंसे8000 ई-पू- से9000 ई-पू- केमध्य चावल के साक्ष्य प्राप्त हुए हैं।

• तमजाापुर, सोनभद्र, बुृंदेलखृंड एवृं प्रिापगढ के सराय नाहर राय सेउत्खनन मेंनवपाषाण काल केऔजार एविंहतियार तमलेहैं।

• आलमगीरपुर सेहड़प्पाकालीन वस्तुएृं प्राप्त हुई हैं, यह हड़प्पा सभ्यिा के पूवी तबस्तार को प्रकट करिा है। यहाृंसेकपास उपजानेकेसाक्ष्य भी प्राप्त हुए हैं।

• 16 महाजनपदोृं मेंसे8 महाजनपद मध्य देश (आधुतनक उ-प्र-) मेंल्कस्थि थे, तजनके नाम थे- कु रू, पािंचाल, काशी, कोशल, शूरसेन, चेतद, वत्स और मल्ल।

• कुशीनगर पर हूणो िंकेआक्रमण के भी साक्ष्य प्राप्त हुए हैं।
• कुशीनगर में483 ई- पू- मेंगौिम बुद्ध को महापररतनवााण की प्राल्कप्त हुई थी।
• कालसी (विामान उत्तराखण्ड) मेंअशोक का चौदहवािं तशलालेख प्राप्त हुआ हैं। यहाृं से सृंस्कर ि पदोृंसेउत्कीणाईटोृंकी एक वेदी तमली हैजो िरिीय शिी ई- केशासक शीलवमान के अश्वमेघ यज्ञ थिल का साक्ष्य है।
• गौिम बुद्ध का अतधकाृंश सृंन्याशी जीवन उत्तर प्रदेश मेंही व्यिीि हुआ था। इसी कारण उत्तर प्रदेश को ‘बौद्ध धमाका पालना कहिेहै
• गौिम बुद्ध नेसवाातधक वषााकाल कोशल राज्य मेंव्यिीि तकए थे।

• चेतद महाजनपद की राजधानी शुल्किमिी (बाृंदा के समीप) थी।

• अयोध्या का प्राचीन नाम अयाज्सा था।

• बौद्ध परृंपरा के अनुसार अशोक नेएक स्तूप का तनमााण अयोध्या मेंकराया था।

• जैन ग्रृंथोृंके अनुसार आतदनाथ सतहि पािंच िीिंकारो िंकी जन्मभूतम अयोध्या थी।

• अतहच्छत्र से‘तमत्र’ उपातध वालेराजाओिंके तसक्के (200-300 ई-) प्राप्त हुए हैं।

• अतहच्छत्र सेगुप्तकालीन ‘यमुना’ की एक मूतिाप्राप्त हुई.

• पुष्यभूति शासक हषावद्धान के काल (606-647 ई-) मेंकन्नौज नगर ‘महोदयश्री’ अथवा ‘महोदय नगर’ भी कहलािा था। तवष्णुधमोत्तर पुराण मेंकन्नौज को ‘महादेव’ बिाया गया है।

• कन्नौज पर आतधपत्य के तलए गुजार-प्रतिहारो िं, पालो िं एविं राष्ट्रकूटोिंके मध्य दीघाकालीन तत्रकोणीय सृंघषाहुआ था।

• सवाातधक समय िक कन्नौज पर गुजार-प्रतिहारो िंनेशासन तकया था।

• 1018-1019 ई- मेंमहमूद गजनवी नेकन्नौज पर आक्रमण तकया था।

• अहरौरा (तमजाापुर) सेअशोक का लघु तशलालेख िथा सारनाि (वाराणसी) एविं कौशाम्बी (इलाहाबाद केसमीप) सेलघुस्तिंभ-लेख तमला है।

• अशोक की राजकीय घोषणाएृं तजन स्तृंभोृंपर उत्कीणाहैं, उन्हें‘लघुस्तिंभ-लेख’ कहा जािा है।

• साृंची एवृंसारनाथ केलघुस्तिंभ-लेख मेंअशोक अपनेमहामात्रेंको सृंघ भेद रोकनेका आदेश देिा है।

• प्रयाग स्तृंभ पर अशोक की रानी करूवाकी द्वारा दान तदए जानेका उल्लेख है। इसे‘रानी का अतभलेख’ भी कहा गया है।

• काशी का सवाप्रिम उल्लेख अिवावेद मेंतमलिा है। महाभारि के अनुसार इस नगर की स्थापना तदवोदास नेकी थी। काशी महाजनपद की राजधानी वाराणसी थी।

• गढ़वा (इलाहाबाद) मेंकु मारगुप्त प्रिम के दो तशलालेख ििा स्किं दगुप्त का एक तशलालेख प्राप्त हुआ है।

• तभिरी स्तृंभ लेख (गाजीपुर) मेंपुष्यतमत्रेंऔर हूणोृंके साथ स्कृं दगुप्त केयुद्ध का वणान है।

• 1194 ई- मेंचृंदावर के युद्ध मेंमुहम्मद गोरी नेगहड़वाल नरेश जयृंचद (कन्नौज का शासक)को परातजि तकया था।

• 1018 ई- मेमहमूद गजनवी नेमथुरा केमृंतदरोृंको ध्वृंस कर लूटपाथ की थी।

• 1670 ई- मेंऔरृंगजेब नेमथुरा के कर ष्ण मृंतदर (वीर तसृंह बुृंदेला द्वारा तनतमाि) को नष्ट तकया था।

• अशोक नेसारनाथ मेंएक तसृंह स्तृंभ बनवाया था। इसी तसृंह स्तृंभ शीषाको स्विृंत्र भारि के राजतचन्ह केरूप मेंअपनाया गया है।

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 83
PDF साइज़40 MB
CategoryHistory
Source/CreditsGoogle.Drive.Com

उत्तर प्रदेश का इतिहास और जानकारी – History and Information of Uttar Pradesh PDF

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *