आयुर्वेद की उत्तम किताब | Ayurved Book By Baidyanath PDF In Hindi

आयुर्वेद पुस्तक – Baidyanath Ayurved Book/Pustak PDF Free Download

पुस्तक का मशीनी अंश

वीर में ऐसा कोई भी स्थान नहीं है, जिस पर सेब का पाश्मण नही होता हो। नापुकल भी यह बात तापू होती। लायुमावत का मा बो कारणों से एक गोन रोग माना जाता

(१) राजमष्मा एक बौ्स्थापी रोग है, पर (२) न्लायु- बल्ल एक ऐसा स्थान है, जहां पर वह सम्मान गति से तथा काफी मुरमान पहुंचकर है।

किन्तु समयानुसार विवान और उपयुक्त शिमला में लाना- सत के बीमा के अनेक सोसियों की ससा गिया जा करता है।

माधुनिक एच्टिवानीरिक पौधों के प्ादुभवि के पूर्व यह मालिगामारणत मला मिड होती की। स्नान में रोग क बम सारत बाली-गरदा द्वारा होता है।

रीढ़ की राग कत जब सिंह हो जाती है, राज पद्मा के जीवान्श रीरम्व किी अरमा से । रक्त गुरुद्वारा। र कर ्नायुम्न म एक जाे हे।

जल भर पानी के कारण स्वामी क्षयजन्य मस्तिष्कावरण प्रदाह उसी हालत में होता है, जब कि शरीर का कोई अंग क्षय रोग से आक्ान्त हो ।

यह अक्सर बच्चों को होता है। वयस्कों को यह रोग अपेक्षाकृत कम होता है। क्षय-जन्य मस्तिष्कावरण प्रदाह की चिकित्सा तभी सफल हो सकती है, जब कि रोग निदान प्रारम्भ में ही सम्भव हुआ हो।

  • विचित्रवीर्य और अग्निवर्ण की कथाएँ यह राजयक्ष्मा विशेषांक (सम्पादकीय) आयर्वेदोऽमृतानाम्
  • यक्ष्मा का प्रसार और प्रतिकार राजयक्ष्मा की पहचान में उलझन राजयक्ष्मा का मूलोच्छेद
  • वैदिक काल में राजयक्ष्मा क्षयरोग और आयुर्वेद राजयक्ष्मा तथा यूनानी वैद्यक -राजयक्ष्मा के पर्याय तथा उसका इतिहास प्राकृतिक चिकित्सा और क्षय अनुलोम और प्रतिलोमक्षय यक्ष्मा
  • एक्स-रे द्वारा फुफ्फुस-क्षय का निदान यक्ष्मानिदान के विविध साधन यक्षमा विनिश्चिय
  • यक्ष्मा
  • एक्स-रे द्वारा फुफ्फुस-क्षय का निदान यक्ष्मानिदान के विविध साधन यक्ष्मा विनिश्चिय
  • पाश्चात्य दृष्टि से विविध क्षयों का विचार स्नायुमण्डल का राजयक्ष्मा राजयक्ष्मा और उसकी वैकारिकी
  • राजयक्ष्मा और आधुनिक नारी
  • यक्ष्मा की सफल चिकित्सा राजयक्ष्मा में स्वर्ण की प्राचीनता और विशेषता
  • राजयक्ष्मारोगोत्पादक भूताणु यक्ष्मा चिकित्सा और सिद्धौषधियाँ
  • चरकोक्त यक्ष्मा चिकित्सा

यदि चिकित्सक पूर्णतया जागरूक तथा क्षय जन्य मस्तिष्कावरण प्रदाह होने की सम्भावना से अवगत हो, तो वह इसका निदान प्रारम्भ में कर सकेगा।

लेखक श्री बैद्यनाथ आयुर्वेद भवन – Shree Baidyanath Ayurved Bhawan
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 283
PDF साइज़ 40.9 MB
Category आयुर्वेद(Ayurveda)

बैद्यनाथ आयुर्वेद की उत्तम किताब – Ayurved Book By Expert Book/Pustak PDF Free Download

3 thoughts on “आयुर्वेद की उत्तम किताब | Ayurved Book By Baidyanath PDF In Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.