योग शिक्षा | Yoga Education PDF In Hindi

योग शिक्षा – Yoga And Education Book PDF Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

आधुनिक शिक्षा प्रणाली की नींव अंग्रेजों द्वारा रखी गयी है इस शिक्षा का उद्देश्य मात्र कार्यालयों में कार्य करने हेतु कर्मचारी उपलब्ध करना था।

साथ अपना वर्धस्य बनाये रखने के लिये वे लोग हमारी सभ्यता, संस्कृति की खिल्ली उड़ाते थे। हमारे शास्त्रों की बातो को बकवास बताते थे।

अपनी सभ्यता और संस्कृति, साडित्य और ज्ञान का बखान बढ़ा चढ़ाकर करते थे उन्होने हमारे समाज, हमारी मोचो को इस प्रकार नष्ट-प्रष्ट कर दिया कि, हमने स्वयं ही अपनी सभ्यता और संस्कृति को तुच्छ घोषित कर दिया तथा इसे छोड़कर उनका अधानुकरण आरम्भ कर दिया।

अंग्रेजो के आने के पहले हमारे यहाँ कोई शिक्षा व्यवस्था लागू नहीं दी और प्राचीन शिक्षा व्यवस्या मुललमानों के आक्रमण से नष्ट भ्रष्ट हो चुकी धी बहुत से मूल्यवान ग्रंथ शिक्षालय उन आक्रमगों में नष्ट हो चुके थे।

अतः जन सामान्य को हमारे प्राचीन शास्त्रों का कोई ज्ञान नहीं था। यद्यपि आज भी वड़ी स्थिति बनी हुई।

हम केवल प्राचीन पुस्तकों के नाम अपना सामान्य ताप बढ़ाने के उद्देश्य ऐे पाट कर लत हैं, परन्तु उनमें कौन सी बात लिखी है यह जानने का प्रयत्न नहीं कसते क्योंकि हमारी शिक्षा प्रणाली में भारतीय प्राच्य विषयों का ज्ञान सूचनात्मक है योग आदि के सम्बन्ध में यदि भूल से कहीं जिक आता है

उस्के सम्बन्ध में केवल सुथनात्मक जान ही दिया जायेगा यथा, योग की प्रवर्तक महर्षि पतञ्जलि है। योग कदर्शन चार पादो समाधिपाद, साबन पाद, विभूतिपद और कैवल्यपाट में कल 196 सत्रो में बचेत है। यह विचरो का विज्ञान है।

इसका अध्ययन के लिः विशेष अम की आवश्यकता है। ” आदि’ यह सूचनात्मक ज्ञान इस प्रकार दिया जाता है कि ि को उस विषय में रुचि जा

लेखक कर्मयोगी राजेश-Karmyogi Rajesh
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 138
Pdf साइज़5.5 MB
Categoryस्वास्थ्य(Health)

योग और शिक्षा – Yog Shiksha Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *