नारी रोग | Women Disease PDF In Hindi

नारी रोग के बारेमें – Details of Women Disease Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

चित्र अनेक रंगों में आफरीन ब्रैस से बहुत ही आकर्षक तैयार कराये गये हैं। इन चित्रों का साइज एक समान २० इत् चौडाई तथा ३० इन लम्बाई है।

ऊपर नीचे लकड़ी लगी है, कपड़े पर मटे तथा चिकित्सालय में टांगने पर उनकी शोभा बढ़ाने वाले हैं। सभी अ- ययों का विवरण हिन्दी में लिखा गया है।

में. १-अस्थि पक्षी-इस चित्र में सिर से लेकर पैर तक की समी अस्थियों को बने सुन्दर रंग से दर्शाया गया है। हाद की गुलियों की, पैर की, दही, हावी की बभी अस्बियो स्पष्ट समझ में भा सकती है। मूल्य ।

ने० २-रक परिभ्रमण-इस चित्र में शुद्ध-अशय रच की धमनी एवं शिरा घपने प्राकृविक रहों में राई है। में र भ्रमण र पृथक चित्र है। रदय एवं सम्थन्धिक रित बनी अ पृथक चित्रण किया गया है । হ दाह और एक मैर में सन्यूर्ण अमनी तथा दूसरे डाय और दूसरे पैर में शिरा, रशीद है। मूस्य २)

नं ३-वातनाड़ी संस्थान इस चित्र में सम्पूर्ण बात बादी मण्डल (Tiervous System) का सुन्दर र स्वार चित्रण किया गया है । ऊच् नाई सुधु्ता ्रीर मस्तिष्क सवपिन पृथक किया गया है। चित्र अपने निराका ह । मु. ४) नं.-नेत्र रचना एवं दृष्टि विकृति

इस चित्र में प्थ-गृरथक ६चह । १-दद्िय शत्रू इसमें चड़ के पाड भययय दोष । पटली और कोष्ट को दिलाने के लिये ऋउ का हिलि बाट। इ-पडू से राम्यम्थिन गाडी ४-टष्टि-मेट् ( )| -साधारण सत्य नेश सव रहि विकृति । इस यियों से नेत्र विणशक सम्पूर्ण विक म सट समझ में भाएमा ।

मुम्बई चारो चित्र एक साथ मंगाने पर मृत्यु केवल १६) लिस्ट [य १।।) पुपकत] पारा पिश (समा स्था कपड़े रहित चपे ह) बायोसा में अमे के लिये यदि आप गाना चाहे तो बाधा भारी पियों का मूल्य थिया ३।।)

लेखक वैद देवीशरण गर्ग-Vaid Devisharn Garg
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 644
Pdf साइज़52.6 MB
CategoryHealth

नारी रोगंक – Nari Rogank Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.