सम्पूर्ण हवन रहस्यम | Sampurna Havan Rahasyam PDF In Hindi

सम्पूर्ण हवन रहस्यम – Sampurna Havan Rahasyam Book/Pustak PDF Free Download

पंचगव्य विधिः

एक ताम्रपात्र में गोमूत्र गोबर दूध दधि एवं घी में जल डालकर कुशा से अभिमंत्रित करें। |

गोमूत्र- ॐ गायत्री त्रिष्टुब्जगत्यनुष्टुप्पङ्क्त्यासह । बृहत्त्युष्णिहा ककुप्सूचीभिः शम्यन्तुत्त्वा ।।

मंत्र से कपिला गाय का गोमूत्र लेवें ।।

गोमय–ॐ गन्धद्वारां दुराधर्षा नित्यपुष्टां करीषिणीम् । ईश्वरीं सर्वभूतानां तामिहोपह्वये श्रियम् ।।

मंत्र से गोवर मिलायें ।।

दूध-ॐ आप्यायस्व समेतु ते विश्वतः सोमवृष्ण्यम् । भवा व्वाजस्य सङ्गथे ।।

मंत्र से दूध को गोमूत्र गोमय में मिलाये ।।

दधि-ॐ दधिक्राब्णोऽअकारिषञ्जिष्णोरश्वस्य वाजिनः सुरभि नो मुखाकरत्प्रण आयू षितारिषत् ।।

मंत्र से दधि मिलावें ।

धृत-ॐ तेजो ऽसि शुक्रमस्यमृतमसि धामनामासि

प्रियं देवानामनाधृष्टं देवयजनमसि से घी लेवें।

कुशोदक-ॐ देवस्य त्वा सवितुः प्रसवेऽश्विनो र्बाहुभ्यां पूष्णोहस्ताभ्याम् ।।

कुशा से पञ्चगव्य मिलाकर ॐ मंत्र से अभिमंत्रित करें।

॥ रक्षाविधानम् ॥

एक दोने में रक्षा सूत्र पीली सरसों चावल दक्षिणा एवं सुपारी रख कर उसमें से चावल सरसों दश दिशाओं में निम्न श्लोक के क्रम से फेंकता रहे।

ॐ पूर्वे रक्षतु वाराह आग्नेयां गरुड़ध्वजः।

दक्षिणे पद्मनाभस्तु नैऋत्यां मधुसूदनः ।।

पश्चिमें चैव गोविन्दो वायव्यां तु जनार्दनः

उत्तरे श्रीपति रक्षेद्दीशान्यां हि महेश्वरः।।

उर्ध्वं रक्षतु धाता वो ह्यधोऽनन्तश्च रक्षतु ।

अनुक्तमपि यत्स्थानं रक्षत्वीशोममादि धृक् ।।

यजमान को रक्षा सूत्र वांधने का मंत्र

ॐ यदाबन्ध्नन्दाक्षायणा हिरण्य शतानीकाय सुमनस्यमानः ।

तन्म आवध्नामि शतशारदायायुष्माञ्जर दष्टिर्यथासम्।।

येन वद्धो वली राजा दानवेन्द्रो महावलः ।

तेन त्वामनुबन्ध्नामि रक्षे माचल मा चल ।।

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 224
PDF साइज़28.1 MB
CategoryReligious

सम्पूर्ण हवन रहस्यम – Sampurna Havan Rahasyam Book/Pustak PDF Free Download

1 thought on “सम्पूर्ण हवन रहस्यम | Sampurna Havan Rahasyam PDF In Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.