हस्त मुद्राएँ | Hast Mudrayen

हस्त मुद्राएँ | Hast Mudrayen Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

पृथ्वी सुन करने से कक गुलीला जाता है। • अब मुझ को करने से में बार] खा सोना मते में दर्द जहवा जियो कोनों में बहुत ताभ होता है। पव मुद्धा से हमें कौन सा होता है कवर और वता है।

मुदा को प्रतिदिन करने से महिलाओं की समस्या सशसुदर हो जाता है पटां पूरे शरीर में नमक पेटा टो जाती यी गुदा ये अभ्यास से स्मृति शक्ति बढ़ती है एटा गाविारण

  • पृथ्वी ना करने से दुबली-पाटो लोगों का जन कर त । सच और तेल की मात्रा बढ़ाने के लिए पृथ्वी मुद्रा सोनम वत महत्व है,यह हमारा भी गावचा को जागृत करती है।

॥स सरकार से पुण्य गां प्रत्येक शीशा जैसे शर्ट गर्मी, दथा आटि को सामना करती है पर प्राणियों मारा गया राम आदि से सराय गद्दा होजे के । dl al कार में ही सही वर्ल्ड हसीना से विशाल है।

टली गुदा के पास से झसी जनजारा के गुण साहयक में भी विकसित होने वाले 18 मा विचार को इनायत वताने में मदद करती कपासन की सिथथति में दोनों पैसे के सपनों के मोडकर बैठ जाएं.

रीठ की रूटी सीधी से एवं दोनों पैर अंग केनेसे मिते हने वाहिएे एडिया मटी सहें निशम्य का भाग एडिगों पर ठिकाना तरकारी होता सदिवजासन में न सकेंगो पारामासन या सुखा सत्य में वैठ सकते है।

  1. दोनों हाथों को घुटनों पर सों. ोतियो ऊपर कीशरपारहे अपने साथ की अनामिका अगुली (से कोट हली पास वाणी अंगुली के अगले पोर को अंगठे के कार के पोर ये गपार्श करा्ं।
  2. हाथ की बाकी सारी मुखिया दिवल्याश्या प्रतीची यहाँ ।। वैसे तो पृथ्वी मुद्रा को किसी भी आसन में किया जा सकता है, uु डासेराजासन में कम्झना अधिक लाभकारी है. अतः सयाममा इस मुद्रा को बजासन में बैठकरकमाना चाहिए
लेखक कैलाश द्विवेदी-Kailash Dwivedi
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 23
Pdf साइज़1.2 MB
Categoryस्वास्थ्य(Health)

हस्त मुद्राएँ | Hast Mudrayen Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *