141 देश भक्ति के गीत | Desh Bhakti Geet 2022 PDF

15 अगस्त के लिए देश भक्ति गीतों का संग्रह – Desh Bhakti Geet Pdf Free Download

140+ देश भक्ति गीत स्कूल में गाने के लिए 

  1. सर फरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
  2. शहीदों के खूं का असर
  3. आजादी की दैवी
  4. काकोरी शहीद रामप्रसाद बिस्मिल
  5. हिन्दोस्तां हमारा
  6. वन्दना
  7. करो स्वदेशी से प्रेम अब तुम, जो चाहते हो स्वराज ले
  8. जवानों उठो
  9. जब तक स्वराज हिंद में लाया न जायगा
  10. राष्ट्रीय झण्डा
  11. बलिदान आहवान
  12. मिटा देंगे हुकूमत को हम ऐसा करके छोड़ेंगे
  13. मन तरंग
  14. माता की पुकार
  15. प्यारा हिन्दोस्तां हमारा
  16. सत्य वाणी
  17. उम्मीद की झलक
  18. खूं का असर देख लेना
  19. राष्ट्रपति जवाहरलाल
  20. विदा करो मां जाते हैं हम विजय ध्वजा फहराने को आज
  21. गांधी महिमा
  22. पूर्ण स्वतन्त्रता
  23. शहीद भगत सिंह
  24. भारत माता के सच्चे सुपुत्र की प्रतिज्ञा
  25. नहीं रह सकता
  26. धर्म
  27. क्या चाहते हैं ?
  28. भारत वीरो उठो
  29. जालिम से
  30. कैद हस्ती से कोई आजाद फिर होने को है
  31. इन गांधी टोपीवालों ने है वतन के वास्ते अक्सीर बन्देमातरम्
  32. प्रार्थना
  33. बार की
  34. हम करेंगे या मरेंगे
  35. आजाद करो
  36. भारत भक्त
  37. आज़ादी या मौत
  38. गुलामी से हमको छुड़ायेगा खद्दर

दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए

फिल्म -: कर्मा
संगीतकार -: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार -: आनंद बक्शी
गायक -: कविता कृष्णमूर्ति, मोहम्मद अजीज

मेरा कर्मा तू, मेरा धर्मा तू
तेरा सब कुछ मैं, मेरा सब कुछ तू
हर करम अपना करेंगे

हर करम अपना करेंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
हर करम अपना करेंगे, ऐ वतन तेरे लिए

दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
हर करम अपना करेंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए

तू मेरा कर्मा, तू मेरा धर्मा, तू मेरा अभिमान है

ऐ वतन मेहबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है
ऐ वतन मेहबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है

हम जिएंगे और मरेंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई, हमवतन हमनाम है
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई, हमवतन हमनाम है
जो करे इनको जुदा मजहब नहीं इल्ज़ाम है
हम जिएंगे और मरेंगे, ऐ वतन तेरे लिए

दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए

तेरी गलियों में चलाकर नफरतों की गोलियां
लूटते हैं कुछ लुटेरे दुल्हनों की डोलियाँ
लूटते हैं कुछ लुटेरे दुल्हनों की डोलियाँ
लूट रहे है आप वो अपने घरों को लूटकर
लूट रहे है आप वो अपने घरों को लूटकर
खेलते हैं बेख़बर अपने लहू से होलियां

हम जिएंगे और मरेंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
हर करम अपना करेंगे, ऐ वतन तेरे लिए

दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए
हर करम अपना करेंगे, ऐ वतन तेरे लिए
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए

ऐ वतन तेरे लिए
ऐ वतन तेरे लिए

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों

फिल्म -: हकीकत
संगीतकार -: मदन मोहन
गीतकार -: कैफ़ी आज़मी
गायक -: मोहम्मद रफ़ी

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

साँस थमती गई, नब्ज़ जमती गई
फिर भी बढ़ते कदम को ना रुकने दिया
कट गये सर हमारे तो कुछ ग़म नहीं
सर हिमालय का हमने न झुकने दिया
मरते-मरते रहा बाँकपन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

ज़िन्दा रहने के मौसम बहुत हैं मगर
जान देने की रुत रोज़ आती नहीं
हुस्न और इश्क दोनों को रुसवा करे
वो जवानी जो खूँ में नहाती नहीं
आज धरती बनी है दुल्हन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

राह कुर्बानियों की ना वीरान हो
तुम सजाते ही रहना नये काफ़िले
फ़तह का जश्न इस जश्न के बाद है
ज़िन्दगी मौत से मिल रही है गले
बाँध लो अपने सर से कफ़न साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

खेंच दो अपने खूँ से जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो हाथ अगर हाथ उठने लगे
छूने पाये ना सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा, जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

ऐ मेरे वतन के लोगों ज़रा आँख में भर लो पानी

संगीतकार -: सी. रामचंद्र
गीतकार -: कवि प्रदीप
गायक -: लता मंगेशकर

ऐ मेरे वतन के लोगों, तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सबका, लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर, वीरों ने है प्राण गंवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो, कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर न आये, जो लौट के घर न आये
ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब घायल हुआ हिमालय, ख़तरे में पड़ी आज़ादी
जब तक थी साँस लडे वो
जब तक थी साँस लडे वो, फिर अपनी लाश बिछा दी
संगीन पे धर कर माथा, सो गये अमर बलिदानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जब देश में थी दीवाली, वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में, वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो अपने, थी धन्य वो उनकी जवानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी
कोई सिख कोई जाट मराठा, कोई सिख कोई जाट मराठा
कोई गुरखा कोई मद्रासी, कोई गुरखा कोई मद्रासी
सरहद पर मरने वाला, सरहद पर मरने वाला
हर वीर था भारतवासी

जो खून गिरा पर्वत पर, वो खून था हिन्दुस्तानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

थी खून से लथपथ काया, फिर भी बंदूक उठाके
दस दस को एक ने मारा, फिर गिर गये होश गँवा के
जब अंत समय आया तो,
जब अंत समय आया तो कह गये के अब मरते हैं
जब अंत समय आया तो कह गये के अब मरते हैं
खुश रहना देश के प्यारों, खुश रहना देश के प्यारों
अब हम तो सफ़र करते हैं, अब हम तो सफ़र करते हैं
क्या लोग थे वो दीवाने, क्या लोग थे वो अभिमानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

तुम भूल ना जाओ उनको इसलिए कही ये कहानी
जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

जय हिंद, जय हिंद की सेना
जय हिंद, जय हिंद की सेना
जय हिंद जय हिंद जय हिंद

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 40
Pdf साइज़2.4 MB
Categoryकाव्य(Poetry)
Sourcenationalarchive.nic.in

देश भक्ति गीत स्कूल में गाने के लिए  – Famous Desh Bhakti Ke Git Book Pdf Free Download

1 thought on “141 देश भक्ति के गीत | Desh Bhakti Geet 2022 PDF”

Leave a Comment

Your email address will not be published.