शेअर बाजार पुस्तक | Share Market Book PDF In Hindi

शेअर मार्केट के सक्सेस मंत्र – Share Market Book/Pustak PDF Free Download

सतत शोध

“विजयी निवेशकों में किस बात से अंतर पैदा होता है, जैसा कि आप इस किताब में देखेंगे, गहरे जाने की इच्छा और अधिक व्यापक खोज और दिमाग को हर विचार सुनने और समझने के लिए खुला रखना, इसमें वह आइडिया भी शामिल है, जिसमें आपने कोई गलत फैसला किया हो।

लड़का या लड़की, जो भी ज्यादा मेहनत करेगा, ज्यादा-से-ज्यादा निवेश आइडियाज पर काम करेगा और पिछली पसंदों को लेकर भावुक नहीं होगा, उसी शख्स के सफल होने की उम्मीद ज्यादा होगी।”

पीटर लिंच, एंथनी बोल्टन की किताब इन्वेस्टिंग एगॅस्ट द टाइड की प्रस्तावना में । निवेश सफलता की लंबी राह अमेरिकी निवेशक कम लेखक, जॉन ट्रेन, फिडेलिटी के पूर्व महान् शख्सियत पीटर लिंच के पार्ट्रेट को पेंट कर रहे थे।

लिंच 1992 में मेगलन फंड से रिटायर हो रहे थे और उनके पास 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर की संपत्ति (AUM या असेट अंडर मैनेजमेंट) थी, जिसके लिए उन्होंने 22 मिलियन डॉलर का निवेश किया था।

यह निवेश उन्होंने 1977 में कंपनी की कमान संभालने के बाद तब तक किया था, जब तक उन्होंने दूसरी कंपनी फिडैलिये नहीं ज्वॉइन कर ली थी।

उन्होंने आठ साल तक फिडेलिटी में बतौर विश्लेषक काम किया लिंच के बारे में बताते हुए ट्रेन कहते हैं कि उनका दिन सुबह 6.15 बजे से काम पर जाने के दौरान ब्रोकिंग फर्म्स द्वारा उपलब्ध वार्षिक रिपोर्ट पढ़ने और उनका विश्लेषण करने से शुरू हो जाता था

और रात के 7.15 बजे तक (फिडेलिटो की बस से उन्हें घर छोड़ने के दौरान भी वे वार्षिक रिपोर्ट और फाइनेंशियल रिसर्च पढ़ते रहते थे) चलता रहता था।

यह महान फंड मैनेजर शनिवार को भी काम करता था और अपने 15 साल के मैगलन के कार्यकाल के दौरान उसने एक दिन भी छुट्टी नहीं ली।

इससे भी बढ़कर, पीटर लिंच हर साल 10 हजार मील का सफर करते थे, यानी 40 मील रोजाना उनका जीवन कंपनियों से मिलने के सफर में ही बीतता था।

दरअसल, वे हर महीने 40 से 50 कंपनियों से मिलते, यानो लगभग दो कंपनियों से रोज की मुलाकात के करते थे हर मोटिंग के लिए वे गंभीरतापूर्वक तैयारी करते थे,

दो घंटे तो ये कंपनियों से संबंधित अपने आस-पास मौजूद सामग्रियों को पढ़ने में बिताते थे। जब आप इन सारी चीजों को एक साथ रखते हैं,

तो एक ऐसी तसवीर उभरकर सामने आएगी, जिसमें यात्रा का कैलेंडर पूरी तरह भरा होगा, तमाम बैठकें (जहाँ लिंच सतर्कतापूर्वक नोट्स तैयार करते थे),

शोध करते और सबसे महत्त्वपूर्ण तो यह कि सैकड़ों मिलियन डॉलर के शेयर खरीदत और बेचते रहते थे। (ट्रेन कहते हैं कि बहुत मुश्किल से 10 में से कोई एक कंपनी लिंच को प्रभावित कर पाती थी, ताकि व उसमें पैसा लगा सके।)

लेखक सौरभ मुखर्जी-Saurabh Mukharji
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 160
PDF साइज़2.04 MB
CategoryBusiness

शेअर बाजार पुस्तक – Share Market Book/Pustak PDF Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.