आजादी के तराने | Azadi Ke Tarane

आजादी के तराने | Azadi Ke Tarane Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

निशांत द्वारा गाये जाने वाले गीतों का मुकम्मल नया संग्रह लगभग 21 साल बाद छपकर सामने आ रहा है। अंतिम संग्रह कारवां चलता रहेगा ।989 में छपा था जिसकी भूमिका डा. रामनारायाण शुक्ल ने लिखी थी।

हालांकि इसके बाद सांप्रदायिकता, जंगी उन्माद और देश को साम्राज्यवादी ताकतों के हाथों गिरवी रखने के खिलाफ गाये जाने वाले गीतों के कई छोटे-छोटे संग्रह बराबर छपते रहे।

गीतों का एक बड़ा संग्रह न छपने का कारण यह नहीं था कि उसकी जरूरत नहीं पड़ी। इस दौर में निशांत द्वारा बहुत गीत गाये गये, बहुत नये गीत मिले जिन्हें लोगों ने बहुत पसंद किया।

इन गीतों की मांग भी भारतीय उपमहाद्वीप और उसके बाहर लगातार होती रही पर फोटोस्टेट की सस्ती तकनीक की वजह से गीतों की मांग को पूरा किया जाता रहा।

निशांत के साथियों की यह इच्छा रही कि पुराने संग्रह को ही न छापा जाय बल्कि एक नये संकलन को अपने दर्शाकों के सामने पेश किया जाये लेकिन लगातार चलने चाली भाग-दौड़ ने इस काम में बहुत विलम्ब कराया।

बहरहाल नया संग्रह आजादी के तराने शीर्षक से आपके सामने पेश है। इस संग्रह में हिन्दी/ उर्दू, भोजपुरी, हरियाणवी, नेपाली और पंजाबी भाषाओं के वो गीत शानिल हैं जो निशात के साथी अक्सर गाते हैं।

जो पक्तियां मोटे अक्षरों में हैं उनको दोहराया जाना है। इस संग्रह में निशांत द्वारा गाये जाने वाले गीतों में से कुछ चुनिन्दा गीत ही शामिल किये गये हैं। रचनाकारों के नाम हर गीत के साथ विये गये हैं

इस संग्रह में प्रस्तुत कई गीत प्रगतिशील सास्कृतिक आंदोलन का विरसा है इस दौर में निशांत द्वारा बहुत गीत गाये गये, बहुत नये गीत मिले जिन्हें लोगों ने बहुत पसंद किया।

लेखक नीलिमा शर्मा-Nilima Sharma
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 44
Pdf साइज़8.3 MB
Categoryकाव्य(Poetry)

आजादी के तराने | Azadi Ke Tarane Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.