1857 की क्रांति | Indian Rebellion of 1857 History PDF In Hindi

‘1857 का स्वातंत्र्य संग्राम’ PDF Quick download link is given at the bottom of this article. You can see the PDF demo, size of the PDF, page numbers, and direct download Free PDF of ‘1857 Indian Revolts Notes For Study’ using the download button.

1857 की क्रांति की शुरुआत, कारण एवं परिणाम की PDF Free Download

Revolt of 1857

1857 की क्रांति की Notes

क्रांति का दूसरा नाम इतिहासकारनाम का अर्थ
धर्मांधों का ईसाईयों के विरुद्ध युद्धएल. ई. आर. रीजधर्म में अंधे भारतीयों को ईसाईयों के विरुद्ध युद्ध करने वाला बताया गया।
बर्बरता और सभ्यता के बीच युद्धटी. आर. होम्सभारतीयों को बर्बर कहा गया और खुद को सभ्य बताते हुए यह कहा गया की भारतीय जो बर्बर थे, उन्हें सभ्य बनाने के क्रम में उन्होंने सभ्य लोगों के साथ विद्रोह किया।
हिन्दू-मुस्लिम षड़यत्रजेम्स आउट्रम, टेलरइस विद्रोह को हिन्दू और मुसलिमों का मिला-जुला षड्यंत्र बताया गया, जिसमें अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह किया गया।
सैनिक विद्रोहलॉरेंस, सीले, ट्रेवेलियन, होम्सइन्होंने इस विद्रोह को सैनिक विद्रोह की संज्ञा दी।

भारतीय इतिहासकार 

क्रांति का दूसरा नामइतिहासकारनाम का तात्पर्य
न प्रथम स्वतंत्रता संग्राम, न प्रथम राष्ट्रीय आंदोलन तथा, न ही स्वतंत्रता संग्राम थाआर. सी. मजूमदारइन्होंने आज़ादी के समय भारतीय सरकार से मतभेद होने के कारण 1857 की क्रांति को यह कहा था।
सैनिक विद्रोहदुर्गा दास, सर सैय्यद अहमद खांइन भारतीय इतिहासकारों द्वारा उन ब्रिटिश इतिहासकारों का समर्थन किया गया, जिन्होंने इस क्रांति को एक सैनिक विद्रोह बताया था जैसे लॉरेंस, सीले आदि।
प्रथम स्वतंत्रता संग्राम, सुनियोजित स्वतंत्रता संग्रामवी. डी. सावरकरइन्होंने इस क्रांति को एक व्यापक स्वरुप माना।
राष्ट्रीय विद्रोहडिजरैली, अशोक मेहताब्रिटिश संसद में डिजरैली द्वारा इस क्रांति को एक राष्ट्रीय विद्रोह की संज्ञा दी गई।

1857 की क्रांति की शुरुआत

  • 1857 की क्रांति की शुरुआत 29 मार्च, 1857 को मंगल पांडे के द्वारा बैरकपुर छावनी से किया गया। 10 मई, 1857 को मेरठ के सिपाहियों ने विरोध किया
  • मेरठ से विद्रोही सैनिक ने दिल्ली मार्च का 11 मई, 1857 को बहादुर शाह जफर को भारत का बादशाह घोषित किया।
  • मेरठ के सैनिकों का नेतृत्व बख्ता खान ने किया किया, धीरे-धीरे 1857 ई. का विद्रोह देश के अन्य क्षेत्रों में भी फैल गया।
  • कानपुर में 5 जून, 1857 को विद्रोह की शुरुआत हुई। यहां पर पेशवा बाजीराव द्वितीय के दत्तक पुत्र नाना साहब ने विद्रोह को नेतृत्व प्रदान किया, जिसमें उनकी सहायता तात्या टोपे ने की।
  • लखनऊ में 4 जून, 1857 को विद्रोह की शुरुआत हुई। बेगम हजरत महल ने अपनी अल्पायु पुत्र बिरजिस कादिर को नवाब घोषित किया तथा लखनऊ स्थित ब्रिटिश रेजिडेंसी पर आक्रमण किया।

1857 की क्रांति के कारण

1857 की क्रांति होने के निम्नलिखित कारण थे जिनमें से मुख्य कारण भारतीय सैनिकों को चर्बी युक्त कारतूस प्रयोग करने की सलाह, लॉर्ड डलहौजी के राज हड़प नीति तथा ईसाई धर्म के प्रचार भारतीयों में असंतोष का मुख्य कारण था।

लॉर्ड डलहौजी की राज्य हड़प नीति और लॉर्ड वेलेजली की सहायक संधि ने 1857 की क्रांति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

  • राजनीति कारणों के साथ ही प्रशासनिक कारण भी क्रांति के लिए उत्तरदाई थे। इस समय कोई भारतीय उच्च पद तक नहीं पहुंच सकता था।
  • ईसाई धर्म के प्रचार में भारतीयों के असंतोष को उभारा।
  • 1857 की क्रांति में अंग्रेजों द्वारा भारत का आर्थिक शोषण भी एक प्रमुख कारण था। भारतीय सैनिक भू-राजस्व नीति के कारण दु:खी थे।
  • सैनिक कारणों में ऐसे अनेक बिन्दु विधमन्न थे जो विद्रोह की पृष्ठभूमि के तैयार कर रहे थे। पदोन्नति से वंचित रखना, भारत की सीमाओं के बाहर युद्ध के लिए भेजा जाना तथा देश के बाहर जाने पर अतिरिक्त भत्ता नहीं देना इत्यादि भी 1857 की क्रांति में कारण थे ।
  • मुगल बादशाह चुकी भारतीय जनता का प्रतिनिधित्व करता था इसीलिए उसके अपमान में जनता ने अपना अपमान महसूस किया और विद्रोह के लिए मजबूर हुए।
  • चर्बीयुक्त करतूसो के प्रयोग की बात से सैनिकों में आक्रोश पैदा हुआ।
  • यह 1857 की क्रांति का तत्कालीन कारण था।
  • प्लासी के युद्ध के बाद निरंतर भारत का शोषण होता रहा जो शायद जन असंतोष का सबसे महत्वपूर्ण कारण था। इन सभी कारणों को देखते हुए अंततः भारतीय ने 1857 में क्रांति की शुरुआत की।

1857 की क्रांति के असफलता का कारण

  • विद्रोहियों में नेतृत्व की कमी थी। संगठन तथा एकता का अभाव था।
  • विद्रोहियों के पास सीमित हथियार एवं बम – बारूद का होना।
  • ग्वालियर के सिंधिया, इंदौर के होल्कर, हैदराबाद के निजाम आदि राजाओं ने अंग्रेजों का खुलकर साथ दिया।
  • 1857 के असफलता होने के तत्काल बाद ब्रिटिश क्रॉउन ने कंपनी से भारत पर शासन करने के सभी अधिकार वापस ले लिए।
  • विद्रोहियों के बारे में जॉन लॉरेंस ने कहा कि यदि विद्रोहियों में एक भी योग नेता रहा होता तो हम सदा के लिए हार जाते।
  • 1858 के भारतीय परिषद अधिनियम द्वारा भारत में कंपनी का शासन समाप्त कर दिया गया। इसके बाद से भारत का गवर्नर जनरल वायसराय कहा जाने लगा।
1857 की क्रांति की शुरुआत कहाँ से हुई थी?

1857 की क्रांति की शुरुआत 10 मई, 1857 ई. को मेरठ से हुई, जो धीरे-धीरे कानपुर, बरेली, झांसी, दिल्ली, अवध आदि स्थानों पर फैल गई।

1857 की क्रांति को प्रथम स्वातंत्र्य समर नाम देने वाले व्यक्ति कौन थे?

१८५७ का स्वातंत्र्य समर (मूल मराठी नाम : १८५७चे स्वातंत्र्यसमर) एक प्रसिद्ध इतिहास ग्रन्थ है जिसके लेखक प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी विनायक दामोदर सावरकर थे।

लेखक
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 14
PDF साइज़8 MB
CategoryHistory
Source/Creditsgoogle.Drive.com

1857 की क्रांति – Indian Rebellion of 1857 History PDF Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.