सोचो और अमीर बनो | Think And Grow Rich Napoleon Hill PDF

अपनी सोच से अमीर बनिए – Think And Grow Rich Book/Pustak PDF Free Download

आप अपने भाग्य के विधाता हो और अपने मन के राजा

जब अंग्रेजी कवि डब्लू सी हेनले ने लिखा था, मैं ही अपने भाग्य का विधाता हूँ और अपने मन का राजा उन्हें उसी समय हमें यह कहकर बताना चाहिए था

हम ही अपने भाग्य का निर्माण करते हैं और अपने मन का संचालन क्योंकि हमारे पास ऐसी शक्ति है, जिससे हम अपने विचारों पर काबू पा सकते हैं।

उन्हें यह भी बताना चाहिए कि यह व्योम, पृथ्वी, चंद्रमा और इस पृथ्वी में रह रहे जीव जंतु या फिर चल रहे हम लोग सभी वस्तुए ऊर्जा है, जो सबसे बड़ी ऊर्जा क्षेत्र से बंधी हुई है।

जिसे हम असीम शक्ति कह शक्ति कह सकते है। वह असीम शक्ति हमारे दिमाग में चल रहे विचारों से से प्रभावित होता है और जो हम सोचते हैं, उसे हमारी जिंदगी में वास्तविक रूप में अवतरित करता है।

अगर कवि ने इस सत्य का ज्ञान उस समय करा दिया होता तो हमें पता चल जाता है कि हम अपने भाग्य के विधाता और मन के राजा क्यों है?

उन्हें यह जोर देकर बताना चाहिए था कि ब्रह्मांड की असीम शक्ति इस बात को नहीं जानती कि आप जो सोच रहे हैं, वह अच्छा है या बुरा वह उन विचार को वास्तविकता में लाती है, जो आप सोच रहे है।

इससे उसे कोई लेना देना नहीं है कि वह आपके लिए बुरे है या अच्छे उन्हें यह भी बताना चाहिए था कि हमारे मन में जब कोई विचार हावी हो जाता है

तो वह एक चुंबक की भाँति काम करने लगता है और अपने से सामान परिस्थितियों, व्यक्तियों और वस्तुओं को अपनी और चुंबक की भाँति आकर्षित करता है।

उन्हें बताना चाहिए था कि इससे पहले कि हम अमीर बने, हमारे मन को चुंबक की भाँति कार्य करना प्रारंभ कर देना चाहिए। यह तभी संभव है,

जब हमारे मन में अमीर बनने का विचार पूरी तरह से हावी हो जाए और हमारा मन सिर्फ अमीर बनने के बारे में सोचने लगे। तभी हमारे निश्चित प्लान सफल हो पाएँगे।

लेखक Napoleon Hill
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 159
PDF साइज़2.4 MB
CategorySelf Improvement

सोचो और अमीर बनो – Think And Grow Rich Book/Pustak PDF Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.