Babu Haridas Vaidhya

भर्तृहरि क्रुत नीती शतक | Bhartihari Krut Niti Shatak

भर्तृहरि क्रुत नीती शतक | Bhartihari Krut Niti Shatak Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश धर्मात्शाधर्मात्शा थी। मभी अपने-अपने वर्णाश्रम धर्म का पालन करने । ठौर-ठौर यज्ञ और हवन होते थे। मेघ समय पर यथेष्ट जल बरसाते थे । मालवा प्रान्त में लोग अकाल का नाम नक मून गये थे। राजा प्रजा …

भर्तृहरि क्रुत नीती शतक | Bhartihari Krut Niti Shatak Read More »

स्वास्थय रक्षा | Swasthya Raksha

स्वास्थय रक्षा | Swasthya Raksha Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश पजाव तक जो इसका पावर है, उसे मैं भगवान शव्यावन्द्रकी रूपा के सिया और कुछ नहीं समझता । अगर यह रात न होती, तो मेरे जैसे नगरीय शुद्रातिचुद्र सेखककी लित्री पुस्तकका इतना आदर कदापि न होता। यो तो मैंने इस पुस्तक …

स्वास्थय रक्षा | Swasthya Raksha Read More »

चिकित्सा चन्द्रोदय | Chikitsa Chandrodaya All Volume

चिकित्सा चन्द्रोदय | Chikitsa Chandrodaya All Volume Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश फान बर्गर इन्द्रियोंमें जब बाबु घुस जाती है, तर हनकी चक्तिका नारा कर देखी है। अगर कानमें वायु पुम जातो है, तो कानमें अनेक तरहको होती है, कानोमे एरईद होता है और यह यहने लगन हैं । इमी तरह …

चिकित्सा चन्द्रोदय | Chikitsa Chandrodaya All Volume Read More »

श्रृंगार शतक | Shringar Shatak PDF

श्रृंगार शतक | Shringar Shatak Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश अचपि मापका शब्न फुलोंका घनुर्वाण है तथापि नापने अपने इसी इथियारसे च्रिलोचीको] अपने अचोग कर [है। मौरों को क्या चलाई, स्वरयं जगत्क्े रचनेवाले ्रा, पालनेवाले विष्णु और संहार करनेवाले शिवजी तकको आपने बाकी नहीं कोड़ा। इन तीनों देवताओंको मी मापने, घरका …

श्रृंगार शतक | Shringar Shatak PDF Read More »

स्वास्थ्य रक्षा | Swasthya Raksha

स्वास्थ्य रक्षा | Swasthya Raksha Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश गंगाजलकी परीक्षा “चरक” में लिखा है:– “जिस जलमें भिगोये हुए चाँवल जैसेके तैसे रह जायँ, वही सम्पूर्ण दोषनाशक गङ्गाजल जानना चाहिये । जिसमें ये गुण न हों वह समुद्र-जल समझना चाहिये।” “सुश्रु त” में लिखा है: – “शाली चाँवलोंको ऐसा पकावे …

स्वास्थ्य रक्षा | Swasthya Raksha Read More »