रसायनं तत्त्व | Rasayanm Tatva

रसायनं तत्त्व | Rasayanm Tatva Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

रखायनिवा संयोग होता है वही अवश्य डब्हाना का अनुभवहा है, और जहां वह संयोग बहू ही रहा है। बलं वाला का नाम भी दिख बेती यनिक मयो।उसा क उभवहाना है । इस विषय मे नम के परीक्षा करें । परीक्षा जूने का एक टुकड़ा ले!, उसे टीन के तरखते पर रेवा,

सायास करीबी गईमान बहा रसाययय किसी इम सब यस्यायों में कस हि कार हती है] मे कবर्थ के प्रत्यकों का नाश के भावहीजन के स्खा- निक ये है । ह क के पीछेपालका वर्णन करते हैं वायु के विषय में।

मकर जानते है कि इस स्थान में मेरे पीर म- म्हारे बीच में कोई दोस्त है। हम को कहते हे। किझर से बाहिर वायुहै। यदि कम अपना हाथ वेग से हिलाओ वायु नमारी अंगुलियों में से बहना मानम होगा; यरि नम अपने प्राय के पटाखा करे।

ते मान्त म करे ये कि – सुकम्हारे मुंह से लगता है। बाहर नम रेखो है कि पवन इतनी है, शर इस के कारण हत ि सते हैं औे- राकाश में बारात उड़ते दिखाई देते हैं। यह यवन के बन गतिवाला वायु है योन चकी के पत्तों को कौन जुमा है? तो कहने है।

पवन यह पवन जा कभी कभी बीका-मेरे पास एक कायम अथर: में बाबासमा अदानी बोगस जिसका सनर বি कितनी है) । में इ्स बा सन में रखना है भारत पहले एक पीनी बी ीी स्थ केवाने बराबर कारे रस रस कर यानी में बेर कर दियासलाई से उस में ग्राम या देवी चाहियो

कार रेस बड़ा भयदायक पार्थ है और उस के बड़ी साव्यानता से रखना चाहिये कोकि उस में अपने श्राप त्रा गलग उतनी है, येसा नहो कि वम्हारी अंगुली जल जाया बनम देखने हो कि उस बर्तन के श्रंद्र कास्केारस जत रहा है । अभी सारा कास्के २स लेने न पाय गा कि वह कर बुज जाय गा; श्री मन

लेखक हरिकृष्णा दास-Harikrishna Das
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 139
Pdf साइज़11.1 MB
Categoryभूगोल(Geography)

रसायनं तत्त्व | Rasayanm Tatva Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.