Mythological

This category is a collection of books that is related to Indian Mythology and Ancient spiritual literature. These books are written in the Hindi language and it’s available for free download in PDF format.

सामवेद का सुबोध भाष्य | Samved Ka Subodh Bhashya PDF

सामवेद का सुबोध भाष्य | Samved Ka Subodh Bhashya Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सामवेदके प्रथम काण्ड ‘ भाग्य काण्ड में ११४ मंत्र है, यद्याप इनमें कहीं कहीं दूसरे देवताओं के भी मंत्र है, पर इस काण्डका मुख्य देकता ‘ अभि ‘ है । कोग देवताओं का वर्णन पढे, पढकर उनके …

सामवेद का सुबोध भाष्य | Samved Ka Subodh Bhashya PDF Read More »

कठोपनिषद सानुवाद शंकरभाष्य सहित | Kathopanishad

कठोपनिषद | Kathopanishad Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश कठोपनिषद् कृष्णयजुर्वेदकी कठशाखाके अन्तर्गत है। इसमें यम और नचिकेताके संवादरूपसे ब्रह्मविद्याका बड़ा विशद वर्णन किया गया है। इसकी वर्णनशैली बड़ी ही सुबोध और सरल है। श्रीमद्भगवद्गीता में भी इसके कई मन्त्रों का कहीं शब्दतः और कहीं अर्थतः उल्लेख है। इसमें अन्य उपनिषदों की …

कठोपनिषद सानुवाद शंकरभाष्य सहित | Kathopanishad Read More »

छान्दोग्य उपनिषद भावार्थ सहित | Chhandogya Upanishad

छान्दोग्य उपनिषद भावार्थ सहित | Chhandogya Upanishad Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश ॐ और उजीथ अक्षर एक ही है, अक्षर का अर्थ यहाँ इ नाशी के हैं, जो अविनाशी है, वहीं ॐ है, कोई कोई आचार्य अक्षर शब्द के दो भाग करते हैं, अक्ष + र, अक्ष का अर्थ नेत्राव इन्द्रियां …

छान्दोग्य उपनिषद भावार्थ सहित | Chhandogya Upanishad Read More »

छन्द रामायण | Chhand Ramayan

छन्द रामायण | Chhand Ramayan Book/Pustak PDF Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश विद्वानों की दृष्टि में छन्द रामायण मैंने श्री महेशचन्द्र शुक्ल की काव्यकृति ‘छन्दरामायण’ की। पाण्डु लिपि का आद्योपांत अवलोकन किया। भारत मे रामकथा इतनी पिष्टपेषित तथा चबित चर्वण हैकि इसमें कुछ नया नहीं सोचा जा सकता, परन्तु अन्दरामायण’ को पढ़कर मुझे …

छन्द रामायण | Chhand Ramayan Read More »

साम्ब पुराण की भूमिका | Samb Purana Ki Bhumika

साम्ब पुराण की भूमिका | Samb Purana Ki Bhumika Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश साम्ब पुराण अठारह उपपुराणों में प्रायश: प्राचीनतम है। इसमें भगवान् सूर्य को आराधना की आगमशास्त्रीय विधि साङ्गोपाङ्ग वर्णित है कृष्ण एवं जाम्बवती के पुत्र साम्ब इस पुराण के नेता हैं, जिन्होंने साक्षान् भगवान् सूर्य, नारद एवं वसिष्ठ …

साम्ब पुराण की भूमिका | Samb Purana Ki Bhumika Read More »

सामवेद भाष्यम | Samved Bhashyam

सामवेद भाष्यम | Samved Bhashyam Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश उसे अपना शिकार बना लेती हैं, इसलिए इस वासना को ‘वृत्र’ कहते हैं। इस वृत्र को वह अग्निः- प्रभु ही जंघनत्-नष्ट करता है। परमेश्वर का स्मरण एकमात्र उपाय है जिससे वासनाओं का संहार होता है, परन्तु वह अग्नि द्रविणस्य प्रविण को …

सामवेद भाष्यम | Samved Bhashyam Read More »

महर्षि कुल वैभवम | Maharshi Kula Vaibhavam

महर्षि कुल वैभवम | Maharshi Kula Vaibhavam Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश वर्तमान शताब्दी के प्रारम्भ में बेदार्थ का मनन करने वाले महानुभावों में जयपुर के स्व. पं. मधुसूदनजी ओमा का अपना विशिष्ट स्थान है। उनको वेद-विज्ञानवाद की दृष्टि उनके द्वारा किये गये लेखन में प्रभूत रूप से हुई है पं. …

महर्षि कुल वैभवम | Maharshi Kula Vaibhavam Read More »

सामवेद संहिता | Samaveda Samhita

सामवेद संहिता | Samaveda Samhita Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश आयाम विकसित किया । इस क्रम में लगभग एक मनस्थिति के भाव-सम्पन लोगों को लेकर कई शहरों में स्थान- स्थान पर शान्ति-सभाओं का आयोजन किया, जिसमें प्रयोग- कर्ताओं ने शान्ति- है प्रेम, आनन्द की भाव-तरंगों को धारण-सम्प्रेषण का प्रयोग गहरी तल्लीनता-तन्मयता …

सामवेद संहिता | Samaveda Samhita Read More »

अथर्ववेद भाष्यम (प्रथम काण्डम) | Atharvaveda Bhashyam

अथर्ववेद भाष्यम प्रथम काण्डम | Atharvaveda Bhashyam Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश निःखन्देद अथ वद समय है कि सब ख्री पुवाप अर घर में पेदी र्थ आा और धर्मश होकर पुवपार्थी धनं भारतीय और अन्य ेशीय चिह्ान मीं पंदर का अर्थ खोजने और प्रकाशित करने में बड़ा परिश्रम उठा रहे हैं। …

अथर्ववेद भाष्यम (प्रथम काण्डम) | Atharvaveda Bhashyam Read More »

श्री भक्ति सागर ग्रन्थ | Shri Bhakti Sagar Granth

श्री भक्ति सागर ग्रन्थ | Shri Bhakti Sagar Granth Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश पांचतव्र विनहदै थिरथायो । ना वह बन्पो न कत्यवनायो ओर छोर कहु दीखत नाहीं। कक्सों है और कवियों नाहीं है अनमोल मर्जाद न ताकी वेपरमान बेद यॉं भाषी बैद पुराण पार नहिं पावे | कक्कू कछु धरिष्ान …

श्री भक्ति सागर ग्रन्थ | Shri Bhakti Sagar Granth Read More »

वराह पुराण संक्षिप्त अंक | Varah Puran

वराह पुराण संक्षिप्त अंक | Varah Puran Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश जयति महावराहो जलनिधि उरे चिरं निमप्रोऽपि । আट वह पृथ्वीको चुराकर पाठालमे ले गया । सलाय्भुपभनु- यनान्वैरिच सह फणिगणैर्वठादुरुढृता धरणी ॥ जब ब्रह्माजीने प्रजापालक ‘आदिराजम्के पदपर अभियेक ‘उन वराह भगवान्की जय हो, जिन्होने समुद्रके अन्तस्तकमे चिरम्र रहनेपर भी उस …

वराह पुराण संक्षिप्त अंक | Varah Puran Read More »

छान्दोग्य उपनिषद | Chhandogy Upanishad PDF In Hindi

छान्दोग्य उपनिषद शंकर भाष्य सहित | Chhandogy Upanishad Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश सामकी-प्रकरणपाप होनेके कारण उद्गीथकी गति–आत्रय मर्थात् परायण क्या है। क्योंकि यहाँ उपास्यरूपसे उद्गीथका ही प्रकरण है, जैसा कि ‘परोबरीयांसमु- दगीथमुपास्ते तिमें कहेंगे मी । इस प्रकार पूछे जानेपर दाल्म्यने कहा- स्वर’ क्योंकि साम स्वरस्वरूप है । जिस प्रकार …

छान्दोग्य उपनिषद | Chhandogy Upanishad PDF In Hindi Read More »

ब्रह्मा पुराण | Bramha Puran PDF In Hindi

ब्रह्मा पुराण | Bramha Puran Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश पीछे रखकर काम और लोभमें प्रवृत्त हो गया । उसने धर्मको मर्यादा भङ्ग कर दी और वैदिक धर्मोका उल्लङ्कन करके वह अधर्ममें तत्पर हो गया। विनाशकाल उपस्थित होनेके कारण उसने यह क्रूर प्रतिज्ञा कर ली थी कि ‘किसीको यज्ञ और होम …

ब्रह्मा पुराण | Bramha Puran PDF In Hindi Read More »

श्री लिंग पुराण | Sri Ling Puran PDF In Hindi

श्री लिंग पुराण | Sri Ling Puran Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश कथा लेकर इस लिंग पुराण को बनाया पुराण का परिमाण तो सौ करोड़ श्लोकों का है परन्तु व्यास जी ने संक्षेप में उनको चार लाख श्लोकों में ही कहा है। व्यास जी ने द्वापर के आदि में उसे अलग-अलग …

श्री लिंग पुराण | Sri Ling Puran PDF In Hindi Read More »

ब्रह्माण्ड पुराण खण्ड 1 और 2 | Brahmand Puran Part 1 And 2

ब्रह्माण्ड पुराण खण्ड 1 और 2 | Brahmand Puran Part 1 And 2 Book/Pustak Pdf Free Download पुस्तक का एक मशीनी अंश उस समय में उनके अपने आसन पर बैठ जाने पर समस्त मुनियों ने व्रत धारण किया था और परम प्रसन्न होकर विनीत भाव से सावधान होकर उचित स्थान पर वे सब स्थित हो …

ब्रह्माण्ड पुराण खण्ड 1 और 2 | Brahmand Puran Part 1 And 2 Read More »