गीता की झलक | Gita Ki Jhalak

गीता की झलक | Gita Ki Jhalak Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

सिद्धशिरोमणि, महायोगी श्री स्वामी पुरुषोत्तमानन्द जी महाराज द्वारा लिखित “गीता की झलक” नामक पुस्तक का हिन्दी रूपान्तर कर अपने श्रद्धालु भक्तों के सामने उपस्थित करते हुए मुझे अत्यन्त हर्ष हो रहा है।

प्रस्तुत पुस्तक “गीता की झलक” (A Peep In law the Geeta) पूज्य गुरुदेव १००८ श्री स्वामी पुरुषोत्तमानन्द जी महाराज, संस्थापक वशिष्ठ गुहा आश्रम, गूलर के प्रवचनों का संग्रह है,

जो कि उन्होंने एक बार श्रद्धालु भक्तों के आग्रह पर पंडित घान्दनारायण हरकीली सीतापुर के निवास पर दिया था । पूज्य गुरुदेव श्री स्वामी पुरुषोत्तमानन्द महाराज जी ने जनता को अनुद्योग,

आलस्य एवं अकर्मण्यता के स्थान पर उद्योग, परिश्रम और कर्मण्यता का पाठ पढ़ाया एवं श्रीमद् भगवद्गीता के गूढ़ रहस्यों को अत्यन्त सरल एवं सुबोध भाषा में समझाने का प्रयत्न किया यह ऐसा अमू रत्न है

जिसे प्राप्त करके मनुष्य को कुछ और प्राप्त करने की अभिलाषा नहीं रहेगी। पूज्य स्वामी जी की अमृतमयी वाणी से परिपूर्ण इस ग्रन्थ को पढ़कर पाठकों को सच्चे सुख एवं शान्ति की प्राप्ति होगी

तथा उनके हृदय में दिव्य भावनायें उत्पन्न होगी, ऐसी मेरी आशा है। इधर कई वर्षों से श्रद्धालुओं ने इस पुस्तक को हिन्दी में छपवाने के लिये मुझसे आग्रह किया तथा मेरी भी आकांक्षा रही है

ऐसा अनमोल ग्रन्थ सामान्य पाठकों को भी सुलभ हो । अतः मेरी प्रेरणा से श्री यादव कृष्ण अवधि एम० ए० प्रधानाचार्य रा० उ० मा० विद्यालय मर्रा (मध्य प्रदेश ) ने इस पुस्तक का हिन्दी में अनुवाद किया।

इस पवित्र पुस्तक को छपवाने के लिये मैं पूज्य गुरुदेव महाराज की शिष्या श्रीमती श्यामकिशोर श्रीवास्तव बी० ए० को पूज्य गुरुदेव की ओर से शुभाशीर्वाद देता हूं तथा आप आभार प्रदर्शित करता हूं।

लेखक स्वामी पुरुषोत्तमानंद-Swami Purushottamananda
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 32
Pdf साइज़1 MB
Categoryसाहित्य(Literature)

गीता की झलक | Gita Ki Jhalak Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.