गौ राष्ट्रमाता चित्रमय चेतावनी | Gau Rashtra Mata Chitramay Chetavani

गौ राष्ट्रमाता चित्रमय चेतावनी | Gau Rashtra Mata Chitramay Chetavani Book/Pustak Pdf Free Download

पुस्तक का एक मशीनी अंश

गो हिन्दू संस्कृति और इस सनातन राष्ट्र के मूलधारों में से एक है। गाय उसी प्रकार रक्षणीया है जिसप्रकार हम भूमि और राष्ट्र की रक्षा करते हैं, क्योकि गाय की रक्षा का अर्थ है

अतर्वाह शुचिता, शादती और मजुस्वभाव की रक्षा। वस्तुत हमारा जीवन और परम्पराये गाय से गुंदी हुई है । इसीलिये भगवाजने स्वयं अपजे अवतार कार्यों में गो रक्षा की उद्छोणा की।

किन्तु दुर्भाग्य से यह समाज धीरे धीरे गो माता के महत्व और कृतज्ञता को विस्मृत करता गया और इसी के साथ स्वातंत्र्य काल में कसाईयों के हायो गोवध का पापादार होता हा|

अब तो देश मेयात्रिकी कल साने लगाकर मार दियो की कुथापू्ति के लिये गोमास संसार भरने भेजा जा रहा है, इसके कारण भारत दोनशा से विहीज होजे की स्थिति की ओर बढ़ रहा है।

यदपि गो माता जी रक्षा के लिये हमारे पूज्य सतो, उगोभकतोजे जिरतर रुघर्ष जारी रखा, परन्तु यो भवतो थे उक और प्रथण्ड आवोजज औ दिना यह संभव जही।

इसके लिये आवश्यक है कि हमारा कनाज गये हमारे भावनात्मक सम्बधी यो सनसे गोवा और गोबर लवली का वास इन तथ्यों की पहिचाजे तो निश्चित ही एक जीर्ण शीगंलखाते राष्ट्र की जगह

हम एक समर्थ और शक्तिशाली भारत के निर्माण की और जहां गोरस की सरिताये फिर दहे अग्रसर हो सकते है। समाज के लोक शिण और लोक जागरण की दृष्टि से इस पुस्तिका चित्रो इसत्य

माया से माध्यम से वैज्ञानिक नया से भी गो महत्व बताजे का स्तुत्य प्रयास किया गया मां की ममतामयी गरिमा एवं लौकिक-पारलौकिक हर दृष्टि से परम लाभकारी होने के कारण ही गाय को सदस्य के रूप में प्रतिष्ठा दी जाती है ।

लेखक अशोक सिंघल-Ashok Singhal
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 59
Pdf साइज़7 MB
Categoryप्रेरक(Inspirational)

गौ राष्ट्रमाता चित्रमय चेतावनी | Gau Rashtra Mata Chitramay Chetavani Book/Pustak Pdf Free Download

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *